Top

बीजेपी की 5 हजार किलो खिचड़ी से वोट भले ना बढ़े, वर्ल्ड रिकॉर्ड तो बन ही जाएगा

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले बीजेपी अपने बिदके हुए दलित वोटर्स को खिचड़ी खिला पटाने के प्रयास में है। रामलीला मैदान में बीजेपी 5 हजार किलो खिचड़ी पका रही है। ये खिचड़ी 'भीम महासंगम' के आयोजन में अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में बांटी जाएगी।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 6 Jan 2019 6:25 AM GMT

बीजेपी की 5 हजार किलो खिचड़ी से वोट भले ना बढ़े, वर्ल्ड रिकॉर्ड तो बन ही जाएगा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव से ठीक पहले बीजेपी अपने बिदके हुए दलित वोटर्स को खिचड़ी खिला पटाने के प्रयास में है। रामलीला मैदान में बीजेपी 5 हजार किलो खिचड़ी पका रही है। ये खिचड़ी 'भीम महासंगम' के आयोजन में अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में बांटी जाएगी।

दलितों के प्रति बीजेपी का दुलार दिखाने के लिए बीजेपी 'समरसता खिचड़ी' पका रही है। देखने वाली बात ये होगी कि ये खिचड़ी बीजेपी को कोई फायद देगी या फिर दलित खिचड़ी भोज का आनंद लेंगे और उसे पचा लेंगे।

ये भी देखें :VVIP कार्यक्रम की सुरक्षा में करोड़ो खर्च का नहीं भुगतान, फिर कैसे रूके भ्रष्टाचार

शेफ विष्णु मनोहर पांच हजार किलो खिचड़ी बनाकर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज करवाने का मन बना चुके हैं।

ये भी देखें : यहां बारात के साथ दुल्हन की हुई ऐसी एंट्री, मायके-ससुराल सब थे उसके साथ

कैसे पकेगी समरसता खिचड़ी

बीजेपी ने अपने कार्यकर्ताओं के माध्यम से देश के 14 जिलों के दलित परिवारों से दाल, चावल और नमक एकत्र किया है। बीजेपी के नेताओं का दावा है कि करीब तीन लाख दलितों के घरों से खिचड़ी सामग्री इकट्ठा की गई है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story