RSS के आरक्षण ट्वीट की मायावती ने की निंदा, कहा- नहीं कामयाब होने देंगे उनकी चाल

Published by aman Published: January 20, 2017 | 9:17 pm
Modified: January 21, 2017 | 6:00 pm
LIVE: नसीमुद्दीन सिद्दीकी को मायावती का जवाब, प्रेस कांफ्रेंस शुरू

लखनऊ: आरएसएस के प्रवक्ता और प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य के आरक्षण खत्म करने की मांग पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने जातिवादी करार दिया है। मायावती ने मांग की आरएसएस को संविधान और देशहित में अपनी गलत और जातिवादी मानसिकता बदलनी चाहिए।

और क्या कहा मायावती ने ?
-मायावती जी ने कहा कि आरएसएस का आरक्षण विरोधी बयान और दृष्टिकोण दुर्भाग्यपूर्ण और अति निन्दनीय है।
-केंद्र की बीजेपी और पीएम नरेन्द्र मोदी की सरकार आरएसएस के ही इशारों पर चलती है।
-यही कारण है कि दलितों और पिछड़ों को मिलने वाले आरक्षण की संवैधानिक सुविधा निष्क्रिय बनाने के साथ-साथ इसे खत्म करने का प्रयास लगातार करती रहती है।
-बसपा संघ की की आरक्षण सम्बन्धी गैर-संवैधानिक सोच को कभी सफल नहीं होने देगी।

यह भी पढ़ें…संघ की टिप्पणी- खत्म हो आरक्षण, इससे बढ़ता है अलगाववाद, बढ़ सकती है BJP की मुश्किलें

गौरतलब है कि आरएसएस के मनमोहन वैद्य ने जयपुर लिटरेचर फेस्टिवेल के दौरान आरक्षण को समाप्त करने की मांग कर दी थी। इसके बाद उसने अपना स्टैंड साफ करते हुए कहा कि आरक्षण तब तक रहेगा जब तक जाति आधारित पक्षपात है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App

    Tags: