Top

चित्रकूट एसपी के खिलाफ भाजपा जिलाध्यक्ष ने खोला मोर्चा, सीएम को लिखा पत्र

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 2 Dec 2017 3:39 PM GMT

चित्रकूट एसपी के खिलाफ भाजपा जिलाध्यक्ष ने खोला मोर्चा, सीएम को लिखा पत्र
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : जिलों के प्रशासनिक अफसरों और भाजपा नेताओं के बीच सामंजस्य नहीं बन पा रहा है। अभी निकाय चुनाव में बरेली के जिलाध्यक्ष रवींद्र सिंह राठौड़ के समर्थकों का एसडीएम नवाबगंज राजेश कुमार पर हमले का मामला थमा नहीं था, कि इसी बीच चित्रकूट के भाजपा जिलाध्यक्ष अशोक जाटव का वह सिफारिशी पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें सीएम योगी आदित्यनाथ से एसपी चित्रकूट प्रताप गोपेन्द्र सिंह यादव को हटाने की सिफारिश की गई है।

यह लिखा है पत्र में

भाजपा जिलाध्यक्ष ने सीएम योगी को लिखे अपने पत्र में कहा है कि पुलिस अधीक्षक चित्रकूट का कार्य, व्यवहार जनता और संगठन के लिए बेहद खराब है। यह भी आरोप लगाया गया है कि यहां पैसा लेकर थाना एलाट किया जाता है। थानों में धन उगाही का काम जोरों से चल रहा है। पुलिस उत्पीड़न के कारण भय का माहौल बना हुआ है। डकैतों के नाम पर आम जनता को जेल भेजा जा रहा है। जाटव ने सीएम से एसपी को हटाने की मांग की है।

एसपी के कारनामों की गूंज राजधानी तक

एसपी के कारनामों की गूंज चित्रकूट से राजधानी तक पहुंच गई है। यहां के गांव मऊगुदरी के निवासियों ने भी एसपी पर डकैतों से मिलीभगत के आरोप लगाए हैं। इसकी शिकायत सीएम योगी समेत, डीजीपी, प्रमुख सचिव गृह और राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग से की गई है।

हटाए जा सकते हैं कप्तान

सूत्रों की मानें तो एसपी के इस शिकायत का सीएम और डीजीपी आफिस ने संज्ञान लिया है। आगामी दिनों में कार्रवाई की गाज उनके उपर गिर सकती है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story