Top

CM योगी ने खत्म की DM-SSP की कैंप कार्यालय व्यवस्था, अब ऑफिस में ही रहना होगा

aman

amanBy aman

Published on 28 April 2017 3:17 PM GMT

CM योगी ने खत्म की DM-SSP की कैंप कार्यालय व्यवस्था, अब ऑफिस में ही रहना होगा
X
CM योगी ने खत्म किए DM-SSP के कैम्प कार्यालय व्यवस्था, अब ऑफिस में ही रहना होगा
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: यूपी में डीएम और एसएसपी के ऑफिस के अलावा कैंप कार्यालय की व्यवस्था समाप्त कर दी गई है। उन्हें अपने ऑफिस में 9 से 11 बजे तक जनता के लिए उपलब्ध रहना होगा। सीएम स्वयं इन अधिकारियों को लैंडलाइन पर फोन कर जानकारी लेंगे।

बता दें, कि अब तक की व्यवस्था में इन अधिकारियों के सरकारी आवास पर कैंप कार्यालय होता है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस व्यवस्था को तत्काल समाप्त करने को कहा है।

जन सुनवाई में आएंगे ज्यादा आवेदन तो होगी पूछताछ

सीएम आवास पर जन सुनवाई में जिन जिलों के ज्यादा आवेदन ​आएंगे। वहां के डीएम, एसएसपी और वरिष्ठ अधिकारियों से पूछताछ होगी। यह भी माना जाएगा कि उक्त जिले में समस्याओं के समाधान की व्यवस्था ठीक नहीं है। किसी घटना पर वरिष्ठ अधिकारियों से मौके पर तत्काल पहुंचकर जरूरी कदम उठाने एवं मुख्यमंत्री कार्यालय को भी अवगत कराने की अपेक्षा की गई है। पुलिस थानों का आकस्मिक निरीक्षण करने को भी कहा गया है।

आगे की स्लाइड में पढ़ें पूरी खबर ...

सभी विभाग जारी करेंगे श्वेत पत्र

योगी सरकार के 100 दिन पूरा होने के बाद सरकारी विभागों के रिपोर्ट कार्ड जारी होंगे। वर्तमान में मंत्रियों को अपने-अपने विभागों के श्वेत पत्र जारी करने को कहा गया है। विभागों के प्रेजेंटेशन में 100 दिन के काम की जो योजना बताई गई है। सरकार के 100 दिन पूरे होने के बाद मंत्रियों को इसकी जानकारी देनी होगी। राज्य सरकार के प्रवक्ता व ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने शास्त्री भवन के मीडिया सेंटर में पत्रकारों को यह जानकारी दी।

भ्रष्टाचार के जिम्मेदारों पर दर्ज होगी एफआईआर

शर्मा ने बताया कि मुख्यमंत्री ने सभी मंत्रियों से स्पष्ट तौर पर कहा है कि भ्रष्टाचार के विरुद्ध जीरो टाॅलरेंस की नीति अपनायी जाए। भ्रष्टाचार के लिए जिम्मेदार कार्मिकों को केवल चेतावनी देकर कतई न छोड़ा जाए, बल्कि उनके विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज कराकर कठोर कार्रवाई करायी जाए। सभी गांवों में रोस्टर के अनुसार विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। आंधी एवं तूफान के कारण यदि कहीं बिजली के तार टूटने या खंबा गिरने के कारण विद्युत आपूर्ति बाधित हुई है तो उसे युद्ध स्तर पर दुरुस्त किया जाए।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story