Top

मोदी सरकार में खाद के दामों की हकीकत, कांग्रेस नेता अखिलेश सिंह ने खोली पोल

अखिलेश ने सिंह कहा कि वाह मोदी जी वाह, कुछ किसानों को 500 रुपए देकर 1500 रुपए/कुन्टल मटियहिया खाद का दाम बढ़ा दिया।

Chitra Singh

Chitra SinghBy Chitra Singh

Published on 8 April 2021 6:35 AM GMT

मोदी सरकार में खाद के दामों की हकीकत, कांग्रेस नेता अखिलेश सिंह ने खोली पोल
X

मोदी सरकार में खाद के दामों की हकीकत, कांग्रेस नेता अखिलेश सिंह ने खोली पोल (फोटो-सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: भारतीय किसान उर्वरक सहकारी लिमिटेड (IFFCO) ने किसानों को एक बड़ा झटका दिया है। इफको (IFFCO) ने मटियहिया खाद के दाम को बढ़ा दिया है। इफको (IFFCO) ने मटियहिया खाद का दाम 1500 रुपए प्रति कुन्टल कर दिया है।

इफको (IFFCO) ने जानकारी देते हुए बताया है कि वितरण मार्जिन रुपये 480 / - PMT पर जारी है। डीएनपी / एनपीके के पुराने एमआरपी स्टॉक को पुरानी दर पर बेचा जाएगा। आपको बता दें कि एमआरपी की जटिल उर्वरकों में संशोधन किया गया है। 1 अप्रैल 2021 से इफको ने डीएपी / एनपीके के दाम में जीआरटी एड कर दिया है।

खाद के दाम

जानकारी के मुताबिक, खाद की कीमत में बदलाव किया गया है। NPK-10-26-26 का 50 किग्रा की बोरी का दाम 1900 रुपए, NPK 12-32-16 का दाम 1775, NPK 20-20-0-13 का दाम 1800 रुपए और NPK15-15-15-15 का दाम 1500 रुपए हो गया है।

कांग्रेस ने मोदी सरकार पर साधा निशाना

बढ़ते दाम को लेकर INC के प्रवक्ता और उत्तर प्रदेश के पूर्व विधायक अखिलेश प्रताप सिंह ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। कांग्रेस नेता अखिलेश प्रताप सिंह ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है, "वाह मोदी जी वाह, एक महिने में ही किसानों से दगा। कुछ किसानों को 500 रुपए देकर 1500 रुपए प्रति कुन्टल मटियहिया खाद का दाम बढ़ा दिया।"

बताते चलें कि 2 मार्च 2021 इफको (IFFCO) प्रबंध निदेशक और सीईओ डॉ. यू.एस. अवस्थी ने जानकारी दी थी कि "इफको अपने कम्पलेक्स उर्वरकों की कीमत DAP-1200 रुपए, NPK- 10:26:26 1175, NPK 12:32:16- 1185 और NPS 20:20: 0: 13 - 925 रुपए होगा जो मार्च, 2021 में भी नहीं बढ़ाएगा। किसानों की इनपुट कृषि लागत कम करना हमारा लक्ष्य है।"

Chitra Singh

Chitra Singh

Next Story