Top

आयोग चुनावी तैयारियों में जुटा, बैलट पेपर से विपक्षी दलों ने चुनाव की उठाई आवाज 

लंदन में साइबर एक्सपर्ट के लोक सभा चुनाव 2014 व कई राज्यों के विधान सभा चुनाव में ईवीएम हैकिंग के दावों के बाद देश की राजनीति में उबाल आ गया है। इस को लेकर मचे बवाल के बीच चुनाव आयोग आम चुनावों को लेकर तैयारियों को अंतिम रूप दे रहा है। भारत निर्वाचन आयोग ने लोकसभा चुनाव 2019 सात चरण में कराने का खाका तैयार किया है।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 22 Jan 2019 3:47 PM GMT

आयोग चुनावी तैयारियों में जुटा, बैलट पेपर से विपक्षी दलों ने चुनाव की उठाई आवाज 
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : लंदन में साइबर एक्सपर्ट के लोक सभा चुनाव 2014 व कई राज्यों के विधान सभा चुनाव में ईवीएम हैकिंग के दावों के बाद देश की राजनीति में उबाल आ गया है। इस को लेकर मचे बवाल के बीच चुनाव आयोग आम चुनावों को लेकर तैयारियों को अंतिम रूप दे रहा है। भारत निर्वाचन आयोग ने लोकसभा चुनाव 2019 सात चरण में कराने का खाका तैयार किया है। मुख्य सचिव अनूप चन्द्र पाण्डेय, प्रमुख सचिव गृह अरविन्द कुमार, एडीजी कानून व्यवस्था आनन्द कुमार और आईजी कानून व्यवस्था प्रवीण कुमार के साथ बैठक कर मुख्य निर्वाचन अधिकारी वेंकेटेश्वर लू ने बैठक कर तैयारियों पर मंथन किया।

ये भी देखें :मॉरीशस के पीएम ने बाबा विश्वानाथ के दरबार में टेका मत्था, देखी गंगा आरती

निर्वाचन आयोग ईवीएम के दावों को खारिज करते हुए कहा है कि ईवीएम टेम्पर्ड फ्री है इस के साथ किसी भी तरह की छेड़छाड़ मुमकिन नही है जैसा की कथित साइबर एक्सपर्ट ने दावा किया है लेकिन विपक्षी दलों ने निर्वाचन आयोग से लोक सभा चुनाव बैलट पेपर से कराये जाने की मांग तेज कर दी है सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने कहा कि आज भी लोगों को ईवीएम पर भरोसा नहीं है लोगों का कहना है की वोट दिया साईकिल पर लेकिन गया कमल पर उन्होंने कहा कि आखिर जापान जैसे देश ईवीएम जैसी मशीनों का अपने देश में प्रयोग क्यों नहीं कर रहा है जब जापान को ईवीएम पर भरोसा नहीं है तो हम कैसे कर ले।

बसपा मुखिया मायावती ने निर्वाचन आयोग से लोक सभा चुनाव बैलट पेपर से कराने की मांग दोहराई है। माया ने कहा की मतपत्रों के मतों के सत्यापन की बेहतर व्यवस्था संभव हैं जब कि ईवीएम से सत्यापन की कोई पुख्ता व्यवस्था नहीं है। बेहतर यही होगा की ईवीएम पर छाए हर तरफ विवाद व विपक्षी पार्टियों व जनता की गम्भीर आशंकाओं का जब तक संतोषजनक समाधान नहीं हो जाता है। तबतक लोक सभा चुनाव मतपत्रों से ही कराये जाएँ, इस सिलसिले में चुनाव आयोग की भूमिका अहम है।

ये भी देखें :आइए जानते हैं चलते फिरते भगवान और लिंगायत के बारे में

ईवीएम को लेकर साइबर एक्सपर्ट के दावे के बाद प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने भी बैलट पेपर के ज़रिये ही आम चुनाव कराने की मांग करते हुए कहा कि इतने विवादों के बाद अब ये जरूरी है कि ईवीएम का प्रयोग बंद किया जाए।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story