हमें अपने उच्च संसदीय मानकों को नीचे नहीं आने देना चाहिए: एम वेंकैया नायडू

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू के घर सर्वदलीय बैठक हुई। संसदीय समितियों की बैठक से सांसदों के गैरहाजिर होने की बढ़ती प्रवृत्ति पर राज्यसभा के चेयरमैन एम. वेंकैया नायडू ने चिंता जाहिर की।

नई दिल्ली: उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू के घर सर्वदलीय बैठक हुई। संसदीय समितियों की बैठक से सांसदों के गैरहाजिर होने की बढ़ती प्रवृत्ति पर राज्यसभा के चेयरमैन एम. वेंकैया नायडू ने चिंता जाहिर की।

उन्होंने कहा कि हमें अपने उच्च संसदीय मानकों को नीचे नहीं आने देना चाहिए। राज्यसभा के 67 सालों के लंबे सफर में सदन ने उच्च मानक बनाये हैं।

संसद सत्र के सोमवार से शुरु हो रहा शीतकालीन अधिवेशन राज्यसभा का 250वां होगा। राज्यसभा ने इसे ऐतिहासिक बनाने की तैयारी कर रखी है। इसमें 250 रुपये का चांदी का सिक्का और डाक टिकट जारी किया जाएगा।

ये भी पढ़ें…आतंकवाद मानवता का दुश्मन, आतंक का कोई धर्म नहीं है: वेंकैया नायडू

बैठक में ये नेता रहे शामिल

बैठक में उप सभापति हरिवंश, राज्यसभा के नेता सदन थावरचंद गहलोत, राज्यसभा में विपक्ष के नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद, वित मंत्री निर्मला सीतारमण, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, धर्मेन्द प्रधान, मनसुख मंडाविया, रामदास आठवले, हरदीप पुरी, प्रहलाद जोशी, पुरुषोत्तम रूपाला शामिल हुए।

वहीं बीएसपी से सतीश मिश्रा, टीएमसी से डेरेक ओ ब्रायन, आरजेडी की और से प्रेम गुप्ता, सिरोमणी अकाली दल से बलविंदर सिंह, सपा से रामगोपाल यादव, के केशव राव से टीआरएस, एमडीएमके से वाइको, जोस के मनी केसीएम से, वाईएसआर से विजय साई रेड्डी, डीएमके टी के एस सेलांगोवन ने भी सर्वदलीय बैठक में हिस्सा लिया।

शिवसेना और एनसीपी ने बैठक से किया किनारा

जबकि इस बैठक में ना तो शिवसेना की ओर से और ना ही एनसीपी की ओर कोई शामिल हुआ। जबकि आज सुबह संसद में हुई सर्वदलीय बैठक में शिवसेना से विनायक राऊत शामिल हुए थे।

ये भी पढ़ें…उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ‘द ऑर्डर ऑफ द ग्रीन क्रिसेंट’ से सम्मानित