Top

कानपुर : 181 वार्डों की किस्मत का फैसला करेगे 22 लाख मतदाता

Gagan D Mishra

Gagan D MishraBy Gagan D Mishra

Published on 28 Oct 2017 10:34 AM GMT

कानपुर : 181 वार्डों की किस्मत का फैसला करेगे 22 लाख मतदाता
X
UP: तीन चरणों में होंगे नगर निकाय चुनाव, प्रथम चरण 19 नवंबर को संभव
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: कानपुर में निकाय चुनाव प्रथम चरण में संपन्न होने है और इसके लिए तारीखों का एलान भी हो गया है। कानपुर में नगर निगम के 110 वार्ड है। नगर पालिका के 50 वार्ड और नगर पंचायत के 21 वार्ड है। 21 लाख 81 हजार मतदाता प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला करेगे और अपने मन चाहे प्रत्याशी को जिताएंगे। मतदाताओ के लिए 1812 बूथ बनाये गए है।

कानपुर के टोटल 181 वार्डों में सभी राजनैतिक पार्टिया किस्मत अजमा रही है। लेकिन सबसे खास बात यह है कि इस सभी वार्डों में जातिगत राजनीति हावी है। कानपुर में ब्राह्मण, ओबीसी और एसटी-एससी और मुस्लिम की मिली जुली आबादी है।

सभी जाति वर्ग कर है पार्टियों की नजर

यदि नगर निगम की बात की जाए तो यहां 110 वार्ड है। यह 110 वार्ड कानपुर की 10 विधानसभाओ में से 7 विधानसभाओ को टच करते है। इसके साथ ही ये वार्ड कानपुर लोक सभा व अकबरपुर लोक सभा के सीमा में भी आते है। यदि हम पहले निगम की वार्डों की बात करे तो लगभग 40 वार्ड ऐसे है जो ब्राह्मण बहुल क्षेत्र है। जिसमे कांग्रेस और बीजेपी के पार्षदों की संख्या अच्छी है।

कांग्रेस और बीजेपी के साथ ही साथ सपा और बसपा की भी नजर इन वार्डों पर है। सपा बसपा इन वार्डों में सामान्य वर्ग के प्रत्याशी उतार कर जीत हासिल करना चाहते है। इसके साथ ही शेष बचे 70 वार्ड ऐसे है जिसमे ओबीसी ,एससी एसटी और मुस्लिम बहुल क्षेत्र है। मुस्लिम क्षेत्र में सभी राजनैतिक पार्टिया मुस्लिम प्रत्याशी उतारने की फ़िराक में है।

चुनाव में होगा विकास का होगा मुद्दा

निकाय चुनाव में विकास सबसे बड़ा मुद्दा है। बीजेपी विकास के मुद्दे पर निकाय चुनाव लड़ रही है। बीजेपी की प्राथमिकता सड़क, पानी, बिजली और शौचालय है। वही कांग्रेस, सपा और बसपा विकास के साथ ही बीजेपी को घेरने के लिए नोट बंदी, जीएसटी, खस्ता हाल व्यापर आर्थिक मंडी जैसे मुद्दे लेकर जनता के बीच जा रही हैl

जिले में वार्डों की स्थिति

वही अब नगर पालिका वार्डों की बात की जाये तो नगर पालिका घाटमपुर में 25 वार्ड है और जिसके लिए 35 बूथ हैl घाटमपुर नगर पालिका में 31967 मतदाता हैl घाटमपुर में ग्रामीण इलाका है इस क्षेत्र मुस्लिम व ओबीसी प्रत्यासी की ही जीत होती है। इसके साथ ही बड़ी संख्या में एससी व एसटी बहुल क्षेत्र भी है।

बिल्हौर नगर पालिका में भी 25 वार्ड है और 25 बूथ है जिसमे 15767 मतदाता है। बिल्हौर क्षेत्र में जातिगत समीकरण बहुत ही अहम है। यदि बिल्हौर की भगौलिक स्थिति और जातिगत आकड़ो की बात की जाये तो एससी बहुल क्षेत्र है। इस क्षेत्र में इन्ही का दबदबा रहा है और आगामी चुनाव में भी इन्ही का दबदबा रहने वाला है।

नगर पंचायत बिठूर पर्यटन स्थल है और धर्म नगरी के नाम से मशहूर है। यहां पर 10 वार्ड है और 10 बूथ है। यहां पर मतदाताओं की संख्या 8401 है। यहां से बीजेपी के विधायक अभिजीत सिंह सांगा है। यह ब्राह्मण बहुल क्षेत्र है। यहां से बीजेपी को अच्छी सफलता मिल सकती है। वहीँ शिवराजपुर नगर पंचायत में 11 वार्ड है और 11 बूथ है जिसमे 8473 मतदाता है। शिवराजपुर में मिलीजुली आबादी है।

नगर पंचायत, नगर महापालिका में वैलट पेपर से चुनाव संपन्न होगे। वही नगर निगम के चुनाव ईवीएम से होगे। जिला प्रशासन ने चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है। नामाकन प्रक्रिया की तैयारी भी शुरू कर दी गई है।

Gagan D Mishra

Gagan D Mishra

Next Story