Top

प्रमोशन के मूड में नहीं योगी के केशव, सूबे की कानून-व्यवस्था पर दिया ऐसा जवाब

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 9 Aug 2017 2:21 PM GMT

प्रमोशन के मूड में नहीं योगी के केशव, सूबे की कानून-व्यवस्था पर दिया ऐसा जवाब
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने बुधवार को कानपुर में उन चर्चाओं को आधारहीन बताया, कि वे योगी आदित्यनाथ को हटाकर मुख्यमंत्री बनाये जा सकते हैं। उन्होने कहा कि फिलहाल वे किसी प्रमोशन को पाने के मूड में नहीं हैं।

इसके साथ ही उन्होंने कहा राज्य में होने वाली इक्का-दुक्का वारदातों को कानून व्यवस्था की स्थिति का आईना न माना जाय। मौर्या ने यह बयान बलिया घटना के बारे में पूछे गये एक सवाल के जवाब में दिया है।

ये भी देखें:IGCL आखिरी पड़ाव पर: 11 अगस्त को खेला जाएगा फाइनल मुकाबला, ग्लैमर का लगेगा तड़का

आपको बता दें, मंगलवार को बलिया बांसडीहरोड के बजहां गांव में छेड़खानी का विरोध करने पर स्कूल जा रही 12वीं की छात्रा रागिनी दुबे की सरेराह चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई थी। रागिनी के साथ जा रही छोटी बहन को भी मारने की कोशिश की गई, लेकिन उसने एक घर में घुसकर जान बचाई। बीच सड़क ही बेखौफ युवकों ने वारदात को अंजाम दिया और फरार हो गए थे।

सूबे में अपराधी बेखौफ टहल रहे हैं, लेकिन केशव प्रसाद मौर्या अभी भी कहते हैं कि सूबे में सक्रिय रहे अपराधियों में योगी सरकार के आने के बाद से भय व्याप्त है। उनका दावा है कि पिछली सपा-बसपा सरकार में संरक्षण पाये अपराधी राज्य की सीमा से बाहर खदेड़ दिये गये हैं। हाल में हुई आपराधिक वारदातों के अपराधियों को सलाखों के पीछे भेजने की बात भी मौर्या ने आज फिर दोहराई।

डिप्टी सीएम ने दावा किया, कि योगी सरकार ऐसी व्यवस्था देने के लिये कृतसंकल्प है, जिसमें विरोधी दलों का खेल खत्म होगा और भयमुक्त माहौल में बाहरी पूंजी निवेश को बढ़ावा मिलेगा।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story