एंट्री से पहले ही मचाई बीजेपी में हलचल, जानें इस शख्स के बारें में, पीएम के हैं खास

अनुमान लगाया जा रहा है कि उन्हे भाजपा में शामिल कर एमएलसी बनाया जाएगा। हांलाकि इस बात की किसी को भी पक्की जानकारी नहीं है

IAS Arvind Kumar Sharma and modi

एंट्री से पहले ही मचाई बीजेपी में हलचल, जानें इस शख्स के बारें में, पीएम के हैं खास (PC: social media)

श्रीधर अग्निहोत्री

लखनऊ: यूपी भाजपा में पहली बार ऐसा हो रहा है कि किसी व्यक्ति के पार्टी में शामिल होने के पहले ही सत्ता से लेकर संगठन तक हलचल हो, जिसे लेकर हर तरह की चर्चाएं हो रही हों पर पार्टी में कोई भी कुछ बोलने को तैयार हो। जी हां, यहां बात हो रही है प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खासमखास पूर्व आईएएस अरविन्द कुमार शर्मा की। जो कुछ ही देर बाद प्रशासनिक पद से वीआरएस लेने के बाद अब राजनीति के क्षेत्र में उतर रहे हैं।

ये भी पढ़ें:TMC का डर: भाजपा विरोधी मतों के बंटवारे से परेशान, कांग्रेस व लेफ्ट से की ये अपील

2001 से जुड़े है मोदी के साथ

मोदी के गुजरात में पहली बार मुख्यमंत्री बनते ही उनके नजदीकी बने अरविन्द कुमार शर्मा यूपी के मऊ जिले के ही रहने वाले हैं। 1988 बैच के गुजरात काडर के आईएएस अधिकारी अरविन्द कुमार शर्मा ने लम्बी प्रशासनिक सेवा करने के बाद जब राजनीति में उतरने का फैसला लिया तो राजनीतिक गलियारों में चर्चाएं तेज हो गयी कि जरूर पीएमओ के कहने पर ही उन्हे यूपी भेजा जा रहा है। यूपी में एक साल बाद विधानसभा चुनाव होने वाले हैं।

केवल कयासबाजी है अब तक

हाल फिलहाल इस बात का अनुमान लगाया जा रहा है कि उन्हे भाजपा में शामिल कर एमएलसी बनाया जाएगा। हांलाकि इस बात की किसी को भी पक्की जानकारी नहीं है। जबकि गुजरात में मीडिया में उन्हे तीसरे डिप्टी सीएम पद पर बैठाने की बात कही जा रही है।

योगी मंत्रिमंडल में शामिल होने की भी संभावना

यूपी में भाजपा की चल रही सरकार में 60 सदस्य मंत्री बन सकते है। पर इस समय योगी मंत्रिहमंडल में कुल 54 सदस्य हैं। इनमें 23 कैबिनेट, 9 राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और 22 राज्यमंत्री हैं। विधानसभा चुनाव से पहले योगी सरकार में मंत्रिमंडल का विस्तार कर कुछ नए चेहरों को जिम्मेदारी दी जा सकती है जिनमें अरविंद शर्मा प्रमुख हैं।

कहां के रहने वाले हैं यूपी में

मऊ जिले की मुहम्मदाबाद गोहना तहसील के रानीपुर विकास खंड के अंतर्गत काझाखुर्द गांव के रहने वाले अरविंद कुमार शर्मा का जन्म 11 अप्रैल 1962 को हुआ था। उनके पिता रोडवेज में रहे हैं। तीन भाईयों में सबसे बडे अरविन्द शर्मा की प्रारम्भिक शिक्षा प्राइमरी स्कूल में हुई। इसके बाद यहीं पर डीएवी इंटर कालेज से इंटरमीडिएट किया। बाद में उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक और परास्ताक किया। इलाहाबाद विश्वविद्यालय से पीएचडी की डिग्री लेने के बाद यहीं से उन्होंने राजनीतिक शास्त्र विभाग में बतौर असिस्टेंट प्रोफेसर ज्वाइन किया।

बेहद मेधावी होने के कारण आईएएस बने

इसके बाद उन्होंने इलाहाबाद में रहकर सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी शुरू की और तीसरे प्रयास में वर्ष 1988 में अरविंद का चयन गुजरात कॉडर में भारतीय प्रशासनिक सेवा के लिए हो गया। पहली तैनाती उनकी एसडीएम उनकी पहली तैनाती 1989 में हुई। इसके बाद 1995 में मेहसाणा के कमिश्नर बने।

मोदी के मुख्यमंत्री बनते ही उनके खास हुए

वर्ष 2001 में जब नरेंद्र मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री की कुर्सी संभाली तो जिन ईमानदार नेताओं को अपने कार्यालय में तैनात किया उनमें अरविंद कुमार शर्मा मुख्य थे। तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उनको अपना सचिच बना लिया। लगातार सत्ता मे रहते हुए उनका मोदी की गुजरात सरकार में प्रमोशन होता रहा और वर्ष 2013 में उनको मोदी का प्रमुख सचिव बनाया गया।

ये भी पढ़ें:प्रेमियों को झटका: नाबालिग का Live-In में रहना अपराध, कोर्ट का बड़ा फैसला

प्रधानमंत्री बनते ही मोदी उनको पीएमओ ले आए

इसके बाद 2014 में नरेन्द्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने तो गुजरात से आए कई आईएएस अधिकारियों अरविन्द कुमार शर्मा भी शामिल थें। पीएमओ में उन्हे संयुक्त सचिव की जिम्मेदारी मिली। वीआरएस लेने के समय अरविंद कुमार शर्मा लघु एवं सूक्ष्म उद्योग मंत्रालय में सचिव पद पर तैनात थे।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App