Top

यूपी चुनाव: पहले चरण के लिए प्रचार खत्म, 15 जिलों की 73 सीटों पर 11 को होगा मतदान

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 9 Feb 2017 5:14 AM GMT

यूपी चुनाव: पहले चरण के लिए प्रचार खत्म, 15 जिलों की 73 सीटों पर 11 को होगा मतदान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान 11 फरवरी को होगा। विधानसभा चुनाव के पहले चरण में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 15 जिलों की 73 सीटों के लिए प्रचार का शोर गुरुवार शाम को थम गया। इसके लिए तमाम पार्टियों ने पिछले कुछ दिन में जोरदार रैलियां की हैं। पहले चरण में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के शामली, मुजफ्फरनगर, बागपत, मेरठ, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, हापुड़, बुलंदशहर, अलीगढ़, मथुरा, हाथरस, आगरा, फिरोजाबाद, एटा और कासगंज जिलों में मतदान होना है। यह कुल 2.57 करोड़ लोग 839 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला करेंगे। इसमें 1.17 करोड़ महिलाएं हैं। पश्चिमी यूपी की 73 सीटों में 24 सीटों पर समाजवादी पार्टी, 23 पर बीएसपी, 12 पर बीजेपी, 9 पर आरएलडी और 5 पर कांग्रेस का कब्जा है।

पश्चिमी यूपी में 'SCAM' के निकले कई मतलब

पीएम नरेंद्र मोदी ने चुनाव से पहले मेरठ में 4 फरवरी को एक चुनावी सभा में SCAM की नई परिभाषा दी और इसका मतलब भी समझाया। उन्होंने कहा कि ये चुनाव SCAM के खिलाफ बीजेपी की लड़ाई है और SCAM का मतलब है S-समाजवादी, C-कांग्रेस, A-अखिलेश, M-मायावती। मोदी ने कहा कि जो कल तक जो एक-दूसरे को गालियां दिया करते थे वो अब गले मिल रहे हैं। इनका मकसद एक-दूसरे के घोटालों ओर गलतियों को छुपाना है।

यह भी पढ़ें...मेरठ में मोदी ने बताया SCAM का नया मतलब, S-समाजवादी, C-कांग्रेस, A-अखिलेश, M-मायावती

वहीं, मोदी पर पलटवार करते हुए यूपी के सीएम अखिलेश ने उसी दिन औरैया SCAM की एक और परिभाषा बताई। उनके मुताबिक, देश को वाकई SCAM से बचाना है। A और M से जिनके नाम आते हैं, उनसे बचाना है। देश को अमित शाह और मोदी से बचाना है। अखिलेश ने SCAM का नया मतलब ‘Save the Country from Amit Shah and Modi’ बताया।

यह भी पढ़ें...SCAM पर अखिलेश का मोदी पर पलटवार, बोले- A और M से जिनके नाम, उनसे देश को बचाना है

इन दोनों के बाद कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी चुप कहां रहने वाले थे। उन्होंने भी SCAM की अपनी परिभाषा दे डाली। उन्होंने कहा, 5 फरवरी (रविवार) को अखिलेश के साथ कानपुर में संयुक्त जनसभा के दौरान SCAM की अपनी परिभाषा गढ़ीष राहुल ने कहा SCAM में S का मतलब सर्विस, C मतलब करेज, A का मतलब एबिलिटी और M मतलब मोडेस्टी है।

यह भी पढ़ें...SCAM पर संग्राम चालू: मोदी-अखिलेश के बाद अब राहुल ने भी गढ़ दी ये परिभाषा

मुस्लिम बहुल इलाके में दंगे का असर

मुस्लिम बहुल इस इलाके में लगभग तीन साल पहले दंगों का दंश झेल चुके मुजफ्फरनगर और शामली जैसे इलाके भी शामिल हैं। इन दंगों का असर 2014 के लोकसभा चुनावों में भी देखने को मिला। साल 2012 के विधानसभा चुनाव में इन 73 सीटों में से 11 सीटें जीतने वाली बीजेपी ने इलाके की सभी लोकसभा सीटों पर अपना परचम फहराया था। लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने अपने सहयोगी अपना दल के साथ प्रदेश की 80 में से 73 सीटें जीती थीं।

यह भी पढ़ें...मोदी के SCAM मंत्र पर आया माया का नाम, तो बोलीं- यही है PM की ओछी मानसिकता

मुस्लिमों को अपने पाले में करने में जुटीं मायावती

बसपा ने 403 विधानसभा सीटों में से 99 पर मुस्लिम उम्मीदवार उतारकर इस चुनाव में मुस्लिमों को अपने पाले में करने की कोशिश की है। मायावती ने अपनी हर रैली में अल्पसंख्यकों को बीजेपी, सपा और कांग्रेस को वोट न देने की अपील की है। उनका कहना है कि अगर इनमें से कोई सत्ता में आया तो मुसलमानों की और भी बदतर हालत हो जाएगी।

यह भी पढ़ें...BSP को मिला उलेमा काउंसिल का सपोर्ट, रशादी बोले- दादरी-मुज़फ्फरनगर दंगा कराने वाले साथ हो गए हैं

वहीं, 8 फरवरी को लखनऊ में उलेमा काउंसिल के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना आमिर रशादी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में मायावती को सपोर्ट करने का ऐलान किया। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के राष्ट्रीय महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी भी मौजूद थे। उन्होंने जहां मुलायम सिंह को बाबरी मस्जिद का क़ातिल बताया, वहीं कहा कि इस चुनाव में 102 मुसलमानों को टिकट देकर बसपा ने साफ नीयत का परिचय दिया है। मुस्लिम और दलितों की जरूरत तथा हालात एक जैसे हैं। उन्हें मायावती पर पूरा भरोसा है।

यह भी पढ़ें...बबुआ का बुआ पर निशाना, कहा- पत्थर वाली सरकार ने कर ही ली मूर्तियों से तौबा

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story