Top

DAV कॉलेज में बनेगा ‘बापजी’ का भव्य स्मारक, आर्किटेक्ट संग बैठक जल्द

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 21 Aug 2018 6:43 AM GMT

DAV कॉलेज में बनेगा ‘बापजी’ का भव्य स्मारक, आर्किटेक्ट संग बैठक जल्द
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: डीएवी कॉलेज के छात्रावास और कॉलेज के परिसर में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का भव्य स्मारक बनाया जाएगा। सोमवार को सांसद देवेन्द्र सिंह भोले, विधायक अरुण पाठक जिलाधय्क्ष सुरेंद्र मैथानी और एडीएम सिटी ने हास्टल का निरिक्षण किया।

यह भी पढ़ें: सपा के प्रदेश सचिव संजय कश्यप व उसके प्रधान भाई पवन कश्यप पर दर्ज हुई FIR

पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी इसी हास्टल के रूम नंबर 104 में सन 1945 से लेकर 1947 तक रह कर पढ़ाई की थी। उनके निधन के बाद बीजेपी इस हास्टल के रूम नंबर 104 को धरोहर के रूप में आने वाली पीढ़ी को देना चाहती है।

यह भी पढ़ें: इलाहाबाद: एक मकान में एक ही परिवार के 5 शव मिलने से मचा हडकंप

बीजेपी नेताओ ने जिला प्रशासन के साथ मिलकर कॉलेज और छात्रावास का निरिक्षण किया। छात्रावास के वार्डन पीयूष शुक्ला से से मुलाकात की और शासन की मनसा से उनको अवगत कराया। कॉलेज परिसर और हास्टल में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का भव्य स्मारक बनेगा।

यह स्मारक एक धरोहर के रूप में छात्रों और देश की जनता को समर्पित किया जाएगा। इसे भव्य बनाने के लिए दुनिया से सबसे बेहतरीन आरटीटेक की टीम को लगाया जाएगा।

अटल बिहारी वाजपेयी ने डीएवी कॉलेज से राजनीती शास्त्र की मास्टर डिग्री हासिल की थी। दो साल तक वो हास्टल के रूम नंबर 104 में रहे थे, उनके जाने के बाद यह रूम किसी भी छात्र को एलाट नही किया गया है। अकबरपुर लोकसभा से बीजेपी संसद देवेन्द्र सिंह भोले ने बताया कि रूम नंबर 103 ,104 ,105 लेने की आवश्यकता है।

तब जाकर एक भव्य स्मारक की रचना हो सकेगी, यह स्मारक छात्रों को प्रेरणा देने का भी काम करेगी। इसके साथ ही यह स्मारक धरोहर के रूप में जनता को समर्पित की जाएगी।

जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र मैथानी के मुताबिक इस स्मारक का मुख्या द्वार सड़क की तरफ खुलेगा ताकि जनमानस अपने महान नेता की स्मारक स्थल में आसानी से आ जा सके। जल्द ही इस फैसले पर अंतिम निर्णय लेकर आर्किटेक्ट के साथ बैठक कर इसका स्वरुप तैयार किया सके।

इसके साथ ही नगर निगम के सदन पर सर्वसमिति से एक फैसला लिया गया जिसमें मेयर प्रमिला पाण्डेय ने बताया कि बड़ा चौराहा का नाम बदल कर अटल चौक रखा जाएगा। गंगा बैराज पर बन रहे घाट का नाम अटल घाट रखा जाएगा। वही, अभी तक वीआईपी रोड के नाम से जाने जानी वाली सड़क का नाम अटल मार्ग होगा।

शेखपुर में नगर नगम की 20 एकड़ की जमीन पर अटल स्मृति बनाने का प्रस्ताव रखा गया है। तुलसी उपवन में अटल बिहारी बाजपेई की विशाल प्रतिमा लगवाई जाएगी। इसके साथ ही अंगेजो के ज़माने का बना पुल जूही खल्वा पुल को अटल सेतु के नाम से जाना जाएगा।

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story