Top

ऐसा प्यार कहाँ : गुल मोहम्मद पठान उर्फ महंत गुलाबनाथ थे सीएम आदित्य नाथ के गुरु भाई

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 28 March 2017 11:25 AM GMT

ऐसा प्यार कहाँ : गुल मोहम्मद पठान उर्फ महंत गुलाबनाथ थे सीएम आदित्य नाथ के गुरु भाई
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, एक ऐसा नाम जिसे घोर मुस्लिम विरोधी नेता के तौर पर पहचाना जाता है। लेकिन इनमें से काफी कुछ सिर्फ सुनी सुनाई बातों पर आधारित कहानियां और किस्से हैं। योगी मुस्लिमों के भी उतने ही करीब हैं, जितने की किसी हिंदू के। उनके समर्थक हिंदू और मुस्लिम दोनों ही हैं, चुनाव का दौर याद करिए आपको याद आ जाएगा कि मुस्लिम लगातार उनको सीएम बनाए जाने की मांग करते रहे। सिर्फ इतना ही नहीं उनके लिए मन्नते मांगी गयी। हम आज आपको जो बताने जा रहे हैं उससे भी यही साबित होगा कि वो अल्पसंख्यक समाज के विरोधी नहीं है।

ये भी देखें :स्मारकों पर पुलिस ने चलाया एंटी रोमियो अभियान, ASI ने जताई आपत्ति, कहा-पर्यटन को होगा नुकसान

योगी के गुजरात कनेक्शन के बारे में सिर्फ उनके बहुत खास करीबी ही जानते हैं, लेकिन अब सभी जान जायेंगे। योगी के गुरुभाई गुजरात से हैं और उनके गुरुभाई का नाम है गुलाब नाथ बापू। गुलाबनाथ गुजरात के विसनगर इलाके में स्थित नाथ संप्रदाय के महंत थे। अब आप सोच रहे होंगे कि गुलाब नाथ मुस्लिम कैसे हो सकते हैं और हैं भी तो कट्टर हिंदू समर्थक नाथ संप्रदाय के महंत कैसे बन गए तो स्लाइड आगे करिए और देखिए कौन हैं गुलाबनाथ ?

ये भी देखें :कांग्रेस के मुस्लिम नेता बोले- पीरियड्स के दौरान अपवित्र होती हैं औरतें, धार्मिक स्थल में ना जाएं

गुल मोहम्मद पठान का जन्म एक मुस्लिम परिवार में हुआ था। यही गुल आगे चल कर गुलाबनाथ बापू के नाम से जाना गया और कालांतर में इनकी पहचान कट्टर हिंदूवादी के तौर पर होने लगी है। गुलाबनाथ ने वडगाम मठ में महंत बालकनाथ से 18 साल की छोटी उम्र में दीक्षा ली। गुलाबनाथ बापू योगी के गुरु महंत अवैद्यनाथ को अपना गुरू मानते थे, तो हो गए न गुरुभाई।

ये भी देखें :लाली की शादी में लड्डू दीवाना’ के सेट पर हुई कविता-अक्षरा हासन की दोस्ती, यूं की एक-दूसरे की तारीफ

योगी ने हमेशा गुलाबनाथ को बड़े भाई की तरह आदर और सम्मान दिया। 6 दिसंबर 2016 को जब 86 वर्ष की उम्र में महंत गुलाबनाथ का निधन हुआ तब योगी विसनगर पहुचें और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित दी। महंत की मृत्यु के बाद आदित्यनाथ ने ही उनके स्थान पर नए महंत को नियुक्त किया। योगी ने उनके शिष्य शंकरनाथ को विसनगर और वडगाम मठ का पीठाधीश्वर बनाया था।

गुलाबनाथ बापू के गोरक्षनाथ पीठ के महंत अवैद्यनाथ और आदित्यनाथ के साथ बहुत करीबी संबंध थे। गुलाबनाथ गोरक्षनाथ मठ में होने वाले सभी समारोह में आते और बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते थे। समाजसेवा के लिए पीएम नरेंद्र मोदी ने उनको सम्मानित भी किया। गुलाबनाथ से योगी का लगाव इस बात से जाहिर होता है कि वर्ष में 2 से 3 बार योगी विसनगर मठ जरूर जाते हैं। जब गुरुभाई का स्वास्थ्य बिगड़ा तो योगी व्याकुल हो उठे और हर पल उनकी कुशल क्षेम लेने के लिए फोन करते रहते थे।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story