Top

विधानसभा चुनाव: अब महाराष्ट्र की राजनीति में भी पीढ़ियों का बदलाव...

देश के उत्तरी राज्यों में राजनीति के पुराने नेताओं का सियासी मैदान में उतरने का सिलसिला पिछले एक दशक से चला आ रहा है पर अब यह सिलसिला बढ़ते-बढ़ते महाराष्ट्र तक आ पहुंचा है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 12 Oct 2019 7:37 AM GMT

विधानसभा चुनाव: अब महाराष्ट्र की राजनीति में भी पीढ़ियों का बदलाव...
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

श्रीधर अग्निहोत्री

मुंबई: देश के उत्तरी राज्यों में राजनीति के पुराने नेताओं का सियासी मैदान में उतरने का सिलसिला पिछले एक दशक से चला आ रहा है पर अब यह सिलसिला बढ़ते-बढ़ते महाराष्ट्र तक आ पहुंचा है।

और इस बार हो रहे विधानसभा चुनाव में इस बदलाव को साफ तौर पर देखा भी जा सकता है। विधानसभा चुनाव में बाला साहब ठाकरे के परिवार से लेकर दूसरे बड़े राजनीतिक परिवार, जिसमें शरद पवार शामिल है। उनके परिवार की तीसरी पीढी ने इस चुनाव में अपनी दस्तक दे दी है।

ये भी पढ़ें...महाराष्ट्र विधानसभा चुनावः कांग्रेस ने स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी की

ठाकरे परिवार से आदित्य चुनावी मैदान में

वर्ली विधानसभा सीट महाराष्ट्र में शिवसेना के लिहाज से सबसे जिताऊ सीट कही जाती है। जहां से शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के पुत्र आदित्य ठाकरे चुनाव मेैदान में उतरे हैं।

खास बात यह है कि पहली बार ठाकरे परिवार का कोई व्यक्ति विधानसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमाने के लिए उतरा है। यही कारण है कि चुनाव में उनके परिवार के ही दूसरे सदस्य और राजनीतिक ताकत रखने वाले एमएनएस पार्टी के राज ठाकरे ने यूपी की समाजवादी पार्टी की शैली में अपना प्रत्याशी नहीं उतारा है।

चर्चा है कि चुनाव बाद गठबन्धन के तहत यदि शिवसेना की सीटों की संख्या ठीक -ठाक रहती है तो शिवसेना मुख्यमंत्री पद पर आदित्य ठाकरे को भी उतार सकती है।

शरद पवार के परिवार से रोहित कर्जत लड़ रहे चुनाव

इसके बाद विपक्ष की तरफ से रोहित पवार का नाम चर्चा में है। महाराष्ट्र की राजनीति में कई वर्षो तक एकछत्र राज्य करने वाले शरद पवार परिवार की तीसरी पीढी के यह उभरते हुए नेता है। रोहित कर्जत जामखेड से चुनाव मैदान में हैं।

उनके खिलाफ फडणवीस सरकार में का राज्यमंत्री मंत्री राम शिंदे चुनाव लड़ रहे हैं। रोहित पहले जिला परिषद के सदस्य रहे हैं।

देशमुख परिवार से धीरज चुनावी मैदान में

इनके अलावा जो तीसरा सबसे बडा नाम चर्चा में है, वह है विलासराव देशमुख परिवार के तीसरे बेटे धीरज देशमुख का। जो लातूर से चुनाव लड रहे हैं। जिनके लिए उनके भाई और फिल्म स्टार रितेश देशमुख लगातार चुनाव प्रचार में खून पसीना बहा रहे हैं।

उनके भाई अमित देशमुख भी लगातार चुनाव प्रचार में मेहनत कर रहे हैं। वह पहले से ही विधायक हैं और उनका क्षेत्र में अच्छा प्रभाव भी है।

इसी तरह महाराष्ट्र भाजपा में एक और बडा नाम है, वह है एकनाथ खडके का। इस बार उनकी बेटी रोहिणी खडके को टिकट दिया गया है। वह पहली बार चुनाव में उतरी हैं और जलगांव की मुक्ताईनगर सीट से चुनाव लड रही हैं।

ये भी पढ़ें...महाराष्ट्र चुनाव: शिवसेना ने जारी किया घोषणापत्र, जानिए इसकी बड़ी बातें

गणपत राव देशमुख के नाती अनिकेत चुनावी मैदान में

इनके अलावा लगभग पांच दशक तक विधानसभा के सदस्य रहे शेतकरी कामगार पार्टी के विधायक गणपत राव देशमुख ने अपने नाती अनिकेत देशमुख को चुनाव मैदान में उतारा है। और खुद अपने पोते के लिए वोट मांग रहे हैं।

अनिकेत देशमुख मेडिकल की पढ़ाई छोडकर अपने दादा की राजनीतिक विरासत के वारिस बने हैं।

पद्मश्री डी. वाई. पाटील के नाती ऋतुराज यहां से लड़ रहे चुनाव

इसी तरह कोल्हापुर साऊथ विधानसभा सीट पर पद्मश्री डी. वाई. पाटिल के नाती ऋतुराज पाटिल कांग्रेस के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं। ऋतुराज अभी सिर्फ 29 वर्ष के हैं।

उनका मुकाबला भाजपा के अमल महादिक से है। जो इस समय विधायक हैं। महाराष्ट्र चुनाव में इस बार तीसरी और युवा पीढी का इस चुनाव में बेहद जोर है।

भोकरदन सीट से भाजपा के संतोष दानवे पाटिल , साकोली से परिणय फुके शिवाजीनगर सीट से सिद्धार्थ शिराले, एनसीपी के अहमदनगर सीट से संग्राम जगताप रायगड से आदिती तटकरे और बीड सीट से संदीप क्षीरसागर , कलवा मुंब्रा सीट से शिवसेना की दीपाली सैयद के अलावा कई युवा नेता अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। जिनके परिवार का कोई न कोई सदस्य राजनीति में रहा है।

ये भी पढ़ें...महाराष्ट्र चुनाव: मतदान से पहले ही आदित्य ठाकरे का भाजपा पर निशाना

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story