सरकार-सरकार-सरकार: आखिर कब बनेगी महाराष्ट्र सरकार? चल रहा मीटिंग का दौर

दरअसल, सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद शरद पवार का कहना है कि उनके पास सरकार बनाने के लिए बहुत समय है, अभी किसी और के साथ सरकार बनाने की चर्चा नहीं हुई है। इससे साफ जहिर है कि अभी महाराष्ट्र की राजनीति थमने वाली नहीं है।

मुंबई: महाराष्ट्र में सरकार गठन में जितनी देर हो रही है, उस बीच राजनीति लगातार दिलचस्प होती जा रही है। जहां एक तरफ शिवसेना को भारतीय जनता पार्टी का साथ छोड़ कर सरकार बनाने का सपना देख रही शिवसेना को NCP प्रमुख शरद पवार से झटका लगा है।

LIVE UPDATE…

खबर आ रही है कि सोनिया गांधी और पवार के बीच होने वाली बैठक कैंसिल हो गई है।

शिवसेना ने भाजपा पर निशाना साधा 

शिवसेना से अलग होने के बाद अब सामना के जरिए शिवसेना ने भाजपा पर निशाना साधा है और पूछा है ‘हमें एनडीए से निकालने वाले तुम कौन?’

सामना के संपादकीय में लिखा है, ‘दिल्ली के भाजपा नेताओं ने किस आधार पर और किसकी अनुमति से यह घोषणा की? ‘यात्रा में जल्दबाजी दुर्घटना को निमंत्रण देती है’ इस प्रकार की जल्दबाजी इन लोगों के लिए ठीक नहीं है।’

थमने वाली नहीं महाराष्ट्र की राजनीति

दरअसल, सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद शरद पवार का कहना है कि उनके पास सरकार बनाने के लिए बहुत समय है, अभी किसी और के साथ सरकार बनाने की चर्चा नहीं हुई है। इससे साफ जहिर है कि अभी महाराष्ट्र की राजनीति थमने वाली नहीं है। महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर लगातार संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। इससे पहले सोमवार को एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने दिल्ली में सोनिया गांधी से उनके आवास पर मुलाकात की थी।

संजय राउत ने किया ट्वीट


शिवसेना नेता संजय राउत ने एक बार फिर दिन की शुरुआत ट्वीट के साथ की है। मंगलवार को उन्होंने लिखा कि अगर जिंदगी में कुछ पाना हो तो तरीके बदलो इरादे नहीं। जय महाराष्ट्र!

शिवसेना अभी अधर में?

शिवसेना इस उम्मीद में है कि जल्द ही राज्य में सरकार बनेगी और मुख्यमंत्री उनका होगा। लेकिन एनसीपी और कांग्रेस के साथ अभी बातचीत चल ही रही है। शरद पवार के सोनिया गांधी से मिलने के बाद शिवसेना के संजय राउत भी उनसे मिलने पहुंचे थे, राउत ने मुलाकात के बाद कहा कि सभी पार्टियां चाहती हैं कि राज्य से राष्ट्रपति शासन खत्म होना चाहिए।

पवार ने सबको रखा असमंजस की स्थिति में

शरद पवार ने सोनिया गांधी से मिलने के बाद कहा कि अभी सरकार बनाने पर बात नहीं हुई है। पवार बोले कि अभी कांग्रेस-एनसीपी ने आपस में बात की है, आगे की रणनीति के लिए दोनों पार्टी के नेता आपस में बात करेंगे।

जब शरद पवार से पूछा गया कि शिवसेना दावा कर रही है कि उनके पास 170 विधायकों का समर्थन है, तो शरद पवार ने जवाब दिया कि मुझे नहीं पता कि उनके पास ये नंबर कहां से आया है।