Top

मायावती बोलीं- श्मशान, कब्रिस्तान और कसाब की राजनीति चुनाव प्रभावित करने का प्रयास

aman

amanBy aman

Published on 24 Feb 2017 3:13 PM GMT

मायावती बोलीं- श्मशान, कब्रिस्तान और कसाब की राजनीति चुनाव प्रभावित करने का प्रयास
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: पीएम नरेंद्र मोदी श्मशान, कब्रिस्तान और कसाब की राजनीति कर चुनाव प्रभावित करने का प्रयास कर रहे हैं, यह निंदनीय है। इससे जनता को सावधान रहने की जरूरत है। बसपा प्रमुख मायावती ने शुक्रवार को जारी बयान में यह भी कहा है कि पीएम एच-1बी अमेरिकी वीजा और भारतीय छात्र की हत्या जैसी विपदा सहित अन्य समस्याओं से मुक्त होकर काम कर रहे हैं।

मायावती ने आगे कहा है कि नोटबंदी के जन पीड़ादायी फैसले पर लगातार विपक्षी पार्टियों को कोसते रहना यह साबित करता है कि प्रदेश के चुनाव में जनता के बीच यह बड़ा मुद्दा है, जो बीजेपी की लुटिया डुबो रहा है। इस मामले में मोदी लोगों को लाख बरगलाने की कोशिश करें, पर जनता इनके बहकावे में आने वाली नहीं है। बल्कि उनका यह अपरिपक्व फैसला देश में आर्थिक इमरजेंसी लगाने के काले अध्याय के रूप में ही जाना जाएगा।

मोदी अपनों को पहुंचा रहे लाभ

बसपा सुप्रीमो ने कहा है कि नोटबंदी की आड़ में बीजेपी खुद की और अपने चहेते धन्नासेठों को भी लाभ पहुंचाने के मामले में देश भर में पूछे जा रहे सवालों पर ख़ामोश है। यह इनकी नीति व नीयत दोनों को ही कठघरे में खड़ा करने वाली है।

बीजेपी अपना रही नए-नए चुनावी हथकंडे

मायावती ने कहा है कि अमेरिकी के नए राष्ट्रपति के 'अमेरिका फस्ट' की नीति से भारतीय मूल के अमेरिकी निवासी सबसे ज्यादा प्रभावित हो रहे हैं। आशंका है कि करीब तीन लाख भारतीयों को वापस अपने देश लौटना पड़ सकता है। इससे देश का आईटी उद्योग काफी प्रभावित होगा, पर केन्द्र सरकार उदासीन व निष्क्रिय बनी हुई लगती है। इन समस्याओं से लोगों का ध्यान बांटने के लिए ही नए-नए चुनावी हथकंडे इस्तेमाल किए जा रहे हैं।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story