Top

ए मोदी जी! सवाल तो बनता है, आपके मंत्री पुत्र अभी भी फंसे हैं लालू मोह में ?

Gagan D Mishra

Gagan D MishraBy Gagan D Mishra

Published on 27 Aug 2017 11:51 AM GMT

ए मोदी जी! सवाल तो बनता है, आपके मंत्री पुत्र अभी भी फंसे हैं लालू मोह में ?
X
ए मोदी जी! सवाल तो बनता है, आपके मंत्री पुत्र अभी भी फंसे हैं लालू मोह में  
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना: केंद्र की नरेंद्र मोदी की सरकार में पेयजल और सेनीटेशन राज्य मंत्री राम कृपाल यादव कभी आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव के खासमखास हुआ करते थे ।

यह भी पढ़ें...बीजेपी पहले 2019 जीते फिर 2024 के सपने देखे : ममता बनर्जी

लोकसभा के 2014 के चुनाव में पाटलिपुत्र सीट से चुनाव लडने को लेकर उनका लालू प्रसाद यादव से मनमुटाव हुआ । लालू यादव अपनी बेटी मीसा को इस सीट से चुनाव लडाना चाहते थे जबकि राम कृपाल खुद लडने को इच्छुक थे । बात ज्यादा बढी तो उन्होंने राजद से त्यागपत्र दे दिया। बीजेपी इस मौके की तलाश में थी। उसने तुरंत राम कृपाल को टिकट दे दिया । राम कृपाल चुनाव जीत गए ओर केंद्र में मंत्री बना दिए गए । लेकिन उनका या उनके परिवार का मोह लालू प्रसाद या उनकी पार्टी से खत्म नहीं हुआ । आखिर 30 साल से भी पुराना साथ जो था ।

यह भी पढ़ें...VIDEO : जहां RJD की रैली, वहां लोकगीत, भोजपुरी गाने और ‘लौंडा डांस’ तो बनता है

बेनामी संपत्ति मामले में फंसे लालू प्रसाद यादव ने 27 अगस्त को पटना में भाजपा भगाओ-देश बचाओ रैली बुलाई जिसमें हजारों लोग जुटे ।

यह भी पढ़ें...BJP भगाओ, देश बचाओ : ये नीतीश की आखिरी पलटी, अब लालू आएगा

लालू प्रसाद यादव की रैली में मोदी के मंत्री रामकृपाल यादव के बेटे अभिमन्यु यादव ने अतिथियों का स्वागत किया जिसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो चुकी हैं।

यह भी पढ़ें...हम जयप्रकाश नारायण, लोहिया के सपनों को पूरा करेंगे: राबड़ी देवी

अभिमन्यु ने आरजेडी के कई नेताओं के पटना आगमन पर उनका स्वागत किया और तस्वीरें फेसबुक पर शेयर की हैं। एक फोटो में वो स्वागत करते तो दूसरे में राजद नेताओं के साथ में खाना खाते देखे जा रहे हैं ।

यह भी पढ़ें...RJD रैली: अखिलेश बोले- नीतीश ‘DNA’ वाले चाचा, अच्छे दिन कहां हैं ?

Gagan D Mishra

Gagan D Mishra

Next Story