Top

अखिलेश पर गुस्सा बनकर फूटा मुलायम का दर्द, कहा- जो बाप का न हुआ, किसी और का क्या होगा

मुलायम ने कहा कि भारतीय राजनीति के इतिहास में किसी बाप ने खुद के रहते हुए अपने बेटे को सत्ता नहीं सौंपी लेकिन मैंने ऐसा किया। नतीजा क्या हुआ कि अखिलेश सीएम बनते ही सत्ता के गुरूर में आ गए। मुझे अध्यक्ष पद से हटाया और अपने चाचा को मंत्री पद से बर्खास्त कर दिया।

zafar

zafarBy zafar

Published on 1 April 2017 10:04 AM GMT

अखिलेश पर गुस्सा बनकर फूटा मुलायम का दर्द, कहा- जो बाप का न हुआ, किसी और का क्या होगा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अखिलेश पर गुस्सा बन कर फूटी मुलायम की पीड़ा, कहा- जो बाप का न हुआ, किसी और का क्या होगा

मैनपुरी: समाजवादी पार्टी के संस्थापक और अब संरक्षक बना दिए गए मुलायम सिंह यादव ने शनिवार 1 अप्रैल को अपने बेटे अखिलेश को कपूत करार दिया और कहा कि जो बाप का नहीं हो सका वो राज्य का या किसी और का क्या होगा। यह बात मुलायम सिंह ने शनिवार (01 अप्रैल) को मैनपुरी में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबाधित करते हुए कहीं।

फूटा मुलायम का गुस्सा

मुलायम ने कहा कि भारतीय राजनीति के इतिहास में किसी बाप ने खुद के रहते हुए अपने बेटे को सत्ता नहीं सौंपी, लेकिन मैंने ऐसा किया। लेकिन नतीजा क्या हुआ अखिलेश सीएम बनते ही सत्ता के गुरूर में आ गए। मुझे अध्यक्ष पद से हटाया और अपने चाचा को मंत्री पद से बर्खास्त कर दिया।

जो लड़का अपने बाप का नहीं हुआ वो राज्य का या किसी और का क्या होगा। देश के सबसे बडे राजनीतिक कुनबे में सत्ता को लेकर संघर्ष की शुरूआत पिछले साल सितंबर में शुरू हो गई थी। उसके बाद पिछले पूरे साल शह और मात का खेल चलता रहा। इस संघर्ष में मुलायम और शिवपाल एक तरफ तो अखिलेश और उनके एक और चाचा रामगोपाल यादव दूसरी तरफ थे। चूंकि सत्ता की चाबी अखिलेश के पास थी इसलिए पार्टी कार्यकर्ता उनकी ओर आ गए। अखिलेश को ये लगने लगा कि सरकार के साथ पार्टी भी अब उनकी है।

हाशिये पर मुलायम

इसीलिए उन्होंने इस साल के पहले दिन 1 जनवरी को पार्टी का राष्ट्रीय सम्मेलन बुलाकर पिता को अध्यक्ष पद से हटा दिया और खुद अध्यक्ष बन बैठे। पार्टी पर कब्जे की लड़ाई निर्वाचन आयोग तक पहुंची जिसमें अखिलेश की जीत सिर्फ इसलिए हुई कि विधायक और सांसद उनके साथ थे।

विधानसभा चुनाव में मुलायम ने प्रचार से परहेज किया और खुद को शिवपाल के क्षेत्र जसवंतनगर और छोटी बहू अपर्णा यादव के प्रचार तक सीमित रखा। शिवपाल तो चुनाव जीत गए, लेकिन अपर्णा हार गईं। अब राज्य में बीजेपी की सरकार बन जाने के बाद अखिलेश को लेकर मुलायम का दर्द और गुस्सा एक बार फिर सामने आ गया है। मुलायम ने कहा कि मैंने पहले ही कहा था कि रामगोपाल, अखिलेश को बर्बाद कर देगा और यही हुआ।

अगली स्लाइड में देखिए वीडियो ...

zafar

zafar

Next Story