Top

मेरठ के बाद अब गोरखपुर नगर निगम में भी वंदेमातरम पर मचा बवाल

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 2 April 2017 11:46 AM GMT

मेरठ के बाद अब गोरखपुर नगर निगम में भी वंदेमातरम पर मचा बवाल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गोरखपुर : ​मेरठ नगर निगम में बोर्ड की बैठक के समापन में वंदेमातरम गाए जाने को लेकर पैदा हुआ विवाद अभी थमा नहीं था, कि गोरखपुर नगर निगम बोर्ड की बैठक में भी इसी मुद्दे पर जमकर हंगामा हुआ। महापौर डा. सत्या पांडेय ने वंदेमातरम् के साथ बैठक के समापन का प्रस्ताव रखा तो सपा पार्षद विरोध पर उतर आए। उन्होंने इसे तय कार्यसूची में शामिल न करने का आरोप लगाते हुए डायस पर पहुंचकर हंगामा किया। उनके हंगामा के बीच भाजपा के पार्षद वंदेमातरम् के नारे लगाने लगे।

ये भी देखें :AAP नेता संजय सिंह को महिला ने जड़ा थप्पड़, टिकट के बदले पैसे मांगने का आरोप

इस दौरान भाजपा पार्षदों ने योगी आदित्यनाथ जिंदाबाद के नारे लगाए तो सपा पार्षदों ने अखिलेश यादव जिंदाबाद के नारे लगाए। हंगामा बढ़ता देख महापौर और नगर आयुक्त सदन से निकल गए। इस बीच सदन में अफरा-तफरी मची रही। नगर निगम बोर्ड की बैठक बुलाई गई थी, जिसमें वर्ष 2017-18 के लिए बजट और नगर निगम क्षेत्र में 31 गांवों को जोड़ने का प्रस्ताव रखा जाना था।

दोपहर एक बजे सदन की कार्यवाही शुरू हुई। पार्षद संजय सिंह, वीर सिंह सोनकर, पिंटू गौड़, शिवाजी शुक्ला, रमेश गुप्ता, मोहम्मद जावेद, शकील अंसारी ने छुट्टा पशुओं को पकड़ने, खराब सड़कें और पथ प्रकाश की समस्या उठाए। इस दौरान कई प्रस्ताव पर सदन की मुहर लगी।

दोपहर सवा दो बजे मेयर ने वंदेमातरम् के साथ सदन की कार्रवाई समाप्त करने का प्रस्ताव रखा, जिसे लेकर विवाद शुरू हो गया। सपा पार्षद जियाउल इस्लाम, मंजूर आलम, हाजी शकील अंसारी, मोहम्मद अख्तर, अमीरुद्दीन अंसारी और मोहम्मद जावेद विरोध करते हुए डायस तक पहुंच गए। इसी बीच किसी ने शीशे का ग्लास तोड़ा और कुर्सी पटक दी। सदन के अंदर इस हंगामे के दौरान भाजपा पार्षद पिंटू गौड़, रणंजय सिंह जुगनू, रविंदर सिंह राजू, राजेश जायसवाल समेत कई पार्षद डायस के पास पहुंचे।

सपा पार्षदों का कहना था कि बिना सूचना नई परंपरा क्यों शुरू की गई। भाजपा पार्षदों का कहना था कि वंदेमातरम् न गाने वाले देशद्रोह के श्रेणी में आते हैं।

गोरखपुर की मेयर सत्या पाण्डेय ने कहा की देश और प्रदेश में राष्ट्रवादी सरकार है। इस लिए हर बैठक में अब वंदेमातरम् गाया जाएगा। जो लोग इसका विरोध करते हैं वे देशभक्त नहीं हो सकते। यह जरूरी नहीं है कि जो काम पहले नहीं हुआ है, आगे भी न हो।

वही सपा पार्षद जियाउल इस्लाम ने कहा महापौर ने सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए नगर निगम मेरठ की नकल की है। पौने पांच साल के कार्यकाल में उन्हें कभी राष्ट्रगान और वंदेमातरम् की याद नहीं आई। सुप्रीम कोर्ट का स्पष्ट निर्देश है कि वंदेमातरम् के लिए किसी को बाध्य नहीं किया जा सकता।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story