Top

गांधी की पुण्यतिथि पर पीएम मोदी बोले- कड़े फैसले लेने के लिए पूर्ण बहुमत की सरकार जरूरी

सूरत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पिछली सरकार ने सिर्फ 25 लाख मकान बनाए, लेकिन हमारी सरकार ने काफी कम समय में 1 करोड़ से अधिक घर बनवाए हैं। उन्होंने दावा कि मेरे जितना काम करने में पिछली सरकार को 25 साल लग जाते। पूर्ण बहुमत की सरकार बहुत जरूरी है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 29 Jan 2019 3:40 AM GMT

गांधी की पुण्यतिथि पर पीएम मोदी बोले- कड़े फैसले लेने के लिए पूर्ण बहुमत की सरकार जरूरी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अहमदाबाद: आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 71वीं पुण्यतिथि है, इस अवसर पर देशभर में कई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज गुजरात के दौरे पर हैं, यहां पर वह दांडी यात्रा की याद में बनाए गए दांडी स्मारक का लोकार्पण करेंगे। इस कार्यक्रम के अलावा प्रधानमंत्री कई अन्य कार्यक्रम में शामिल होंगे, जहां उन्हें कई परियोजनाओं का उद्घाटन करना है। दांडी जाने से पहले प्रधानमंत्री ने सूरत में एयरपोर्ट के नए टर्मिनल की नींव रखी।

सूरत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पिछली सरकार ने सिर्फ 25 लाख मकान बनाए, लेकिन हमारी सरकार ने काफी कम समय में 1 करोड़ से अधिक घर बनवाए हैं। उन्होंने दावा कि मेरे जितना काम करने में पिछली सरकार को 25 साल लग जाते।

यहां प्रधानमंत्री ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि पूर्ण बहुमत की सरकार कड़े फैसले भी ले सकती है और बड़े फैसले भी ले सकती है। उन्होंने कहा कि पूर्ण बहुमत की सरकार जवाबदेह होती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर पूर्ण बहुमत नहीं होता तो मोदी जवाब में कह देता कि मिलीजुली सरकार है। आज पूर्ण बहुमत की सरकार है इसलिए देश का नाम विश्व में आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि पूर्ण बहुमत की सरकार बहुत जरूरी है।

ये भी पढ़ें...2019 में फिर से मोदी सरकार आई तो हम लोग खड़े होकर भाषण भी नहीं दे पाएंगे: राशिद अल्वी

उधर आज पीएम देर शाम युवाओं से संवाद भी करेंगे। बीजेपी पदाधिकारियों के मुताबिक इस कार्यक्रम का आयोजन बुधवार को सूरत के इनडोर स्टेडियम में किया जाना है। बड़ी बात यह कि इस खास संवाद कार्यक्रम के लिए बीजेपी की ओर से बाकायदा एक ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैंपेन भी चलाया गया है, जिसके पेज पर जाकर युवा प्रतिभागी कार्यक्रम के लिए अपना पंजीकरण करा सकते हैं। इस कार्यक्रम के जरिए पीएम मोदी वर्किंग प्रफेशनल्स और छात्रों से उनके मुद्दों पर सीधा संवाद करेंगे और उनके सवालों का जवाब भी देंगे।

इस खास कार्यक्रम की तैयारी में जुटे गुजरात के बीजेपी विधायक हर्ष सांघवी ने बताया कि सूरत के इनडोर स्टेडियम में होने वाले इस कार्यक्रम में समाज के हर वर्ग से जुड़े लोग शामिल होंगे। उन्होंने कहा,'स्टेडियम में 10,800 लोगों के बैठने की व्यवस्था है और करीब 8 हजार लोगों को स्टेडियम के बाहर बैठाने के लिए प्रबंध किए जा रहे हैं।

इस कार्यक्रम के लिए सभी प्रतिभागियों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए चुना गया है।' उन्होंने कहा कि ज्यादा ट्रैफिक के कारण 3 घंटे तक रजिस्ट्रेशन के लिए बनाई वेबसाइट क्रैश हो गई थी, लेकिन महज 45 घंटे में ही 18 हजार से अधिक लोग कार्यक्रम में शामिल होने के लिए रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं।

ये भी पढ़ें...नरेन्द्र मोदी-योगी आदित्यनाथ के गढ़ में प्रियंका गांधी के सामने कई चुनौतियां

सांघवी ने बताया कि इस कार्यक्रम के दौरान स्टेडियम के बीच बने 20X20 के सेंटर स्टेज पर पीएम मोदी युवाओं से संवाद करेंगे और उनके अलावा कोई भी इस मंच पर मौजूद नहीं होगा। उन्होंने कहा कि पीएम के अलावा गुजरात के सीएम विजय रुपाणी समेत तमाम अतिथि जनता के बीच ही बैठेंगे। कार्यक्रम की शुरुआत प्रधानमंत्री के एक संक्षिप्त भाषण से होगी, जिसके बाद वह यहां मौजूद तमाम प्रतिभागियों के सवालों का जवाब देंगे। सांघवी ने दावा किया कि इस कार्यक्रम में वकील, स्टूडेंट्स, उद्यमी, समाजसेवी और छात्रों समेत बड़ी संख्या में प्रबुद्धजन पीएम मोदी से संवाद करेंगे।

पीएम मोदी के इस महासंवाद कार्यक्रम को 2019 से पहले बीजेपी के कैंपेन की शुरुआत के रूप में देखा जा रहा है। एक ओर जहां पार्टी लगातार संगठन के स्तर पर चुनावी तैयारियों में जुटी हुई है, वहीं दूसरी ओर पीएम मोदी भी अब वर्चुअल तरीकों से आम लोगों के बीच संवाद स्थापित करने में जुटे हुए हैं। अगर 2014 के चुनावों की बात करें तो इन चुनावों में भी बीजेपी ने तमाम ऐसे ही कार्यक्रमों के जरिए छात्रों, महिलाओं, युवा वर्किंग प्रफेशनल्स, बिजनसमैन और प्रवासी भारतीयों से संवाद स्थापित किया था। इन चुनावों के दौरान बीजेपी की ओर से देश भर के अलग-अलग शहरों में ऐसे ही संवाद कार्यक्रम स्थापित किए गए थे, जिसमें नरेंद्र मोदी समेत तमाम अन्य बीजेपी नेताओं ने भी हिस्सा लिया था।

ये भी पढ़ें...मदुरै में AIIMS के शिलान्यास के बाद कांग्रेस पर जमकर गरजे पीएम मोदी, धोखा देने वालों को नहीं छोड़ेंगे

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story