Top

बोले नरेश अग्रवाल- जब योगी की शादी नहीं हुई तो उन्हें क्या पता रोमिया क्या होता है

By

Published on 6 Nov 2017 6:07 AM GMT

बोले नरेश अग्रवाल- जब योगी की शादी नहीं हुई तो उन्हें क्या पता रोमिया क्या होता है
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हरदोई: हरदोई नगरपालिका चुनावों में सपा प्रत्याशी सुखसागर मिश्र मधुर को जीत दिलाने के लिए चुनावी समर में उतरे समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव राज्यसभा सांसद नरेश अग्रवाल ने सदर विधायक पूर्व मंत्री नितिन अग्रवाल के संयोजन में सर्कुलर रोड स्थित रंगोली मंडप में आयोजित एक कार्यकर्ता सम्मेलन में भाग लिया।

क्या बोले नरेश अग्रवाल ?

नरेश अग्रवाल ने योगी सरकार द्वारा चलाए जा रही एंटी रोमियो दल पर तंज कसते हुए कहा कि जब सीएम योगी की शादी नहीं हुई तो उन्हें क्या पता कि रोमियो क्या होता है। अगर वह नौजवानों पर चोट करेंगे तो नौजवान भी वोट की चोट देगा। नौजवान बालिग है। लिहाजा उन्हें छूट दी जानी चाहिए, और साधु संतों का जो काम है वह उन्हें करना चाहिए।

नरेश अग्रवाल ने पीएम और सीएम पर बेतुका बयान देते हुए कहा कि जब गांव में गाय और बछड़ा दिखता है तो लोग कहते हैं कि वह देखो मोदी और योगी जा रहे हैं क्योंकि सारी फसल वही खा जाते हैं गांव वालों को क्या मिलता है।

नरेश अग्रवाल यही नहीं रुके। उन्होंने नेताओं को झूठा और फरेबी तक बता डाला। नरेश अग्रवाल ने कहा कि हिंदुत्ववादी, धर्मवादी और देश हित की बात करने वाले भाजपाइयों के पास जब कोई कार्यकर्ता जाता है तो वह उसके काम को गलत बता कर न करने से बचते नजर आते हैं।

यह भी पढ़ें: यूपी निकाय चुनाव 2017 : बीजेपी के मेयर प्रत्याशी घोषित, देखें लिस्ट

सम्मेलन में दिखा नरेश का चुनावी मैनेजमेंट

सपा प्रत्याशी सुखसागर मिश्र मधुर के समर्थन में आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में राज्यसभा सांसद नरेश अग्रवाल के अजेय चुनावी मैनेजमेंट की झलक देखने को मिली। रविवार दोपहर भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने वाले नवीन गल्लामंडी के अध्यक्ष वेदप्रकाश गुप्ता की काट के लिए उनके ही भाई जागेश्वर गुप्ता उर्फ बबलू को मंच से विशेष तौर से भाषण दिलवाया गया और बबलू गुप्ता ने भी सांसद को निराश ना करते हुए उनके विरोध को हवाहवाई साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

यह भी पढ़ें: हिमाचल चुनाव : कांग्रेस के इस बुजुर्ग नेता के इशारे पर नाच रहे हैं प्रत्याशी

वहीं दूसरी ओर सदर से भाजपा प्रत्याशी रहे राजाबख्श के भतीजे रजनीश सिंह को वक्ताओं में शामिल किया गया। रजनीश सिंह ने अपने भाषण की शुरूआत राज्यसभा सांसद को हरदोई का गौरव बताते हुए उन्हें कार्यकर्ताओं के मान सम्मान की धरोहर बताकर किया। नाहर सिंह ने अपने शरीर के एक एक कतरे को राज्यसभा का कर्जदार बताया तो वहीं हबीब लिट्टे ने नरेश के लिए चार साल क्या चालिस साल का वनवास झेलने की बात कही।

कार्यकर्ता होता है नेता की रीढ़ - मधुर मिश्रा

कार्यकर्ता सम्मेलन में बोलते हुए सपा प्रत्याशी मधुर मिश्रा ने कहा कि किसी भी पार्टी या नेता को बनाने व बिगाड़ने में कार्यकर्ताओं का विशेष महत्व होता है और कार्यकर्ता ही नेता की रीढ़ भी होता है। उन्होंने कहा कि राज्यसभा सांसद के समर्थन के बाद चुनावी जीत बस एक औपचारिकता है, जिसे 22 नवंबर को हरदोई की जनता पूरा कर देगी। उन्होंने कहा कि चुनाव जीतने के बाद वह सभी समाज के लोगों को साथ लेकर हरदोई नगर को स्वच्छ सुंदर व सुविधाजनक बनाने का प्रयास करेंगे।

हिमाचल चुनाव का वो किस्सा जो अभीतक नहीं सुना होगा, 28 सीटों से जीते 36 विधायक

बोले नितिन- सत्ता आने पर नारे लगाने वाले कार्यकर्ता होंगे उनकी प्राथमिकता

कार्यकर्ता सम्मेलन में बोलते हुए सदर विधायक नितिन अग्रवाल ने कहा कि जब से उन्होंने राजनीति में कदम रखा है, तब से उन्होंने सत्ता के साथ ही राजनीति की लेकिन सत्ता जाने के बाद विपक्ष की राजनीति करने के दौरान ही उन्हें अपने असल शुभचिंतकों व कार्यकर्ताओं को परखने का मौका मिला है, जिसे वह किसी कीमत पर हाथ से नहीं जाने देंगे। उन्होंने कहा कि विपक्ष की राजनीति करने के दौरान आज जो कार्यकर्ता उनके लिए नोरबाजी कर रहा है, उसे ही सत्ता आने पर वह वरीयता देंगे नाकि किसी लंबे कुर्ते वाले ठेकेदार को।

अपने संबोधन उन्होनें कहा कि वह चुनाव प्रचार के दौरान किसी प्रत्याशी का नाम नही लेंगे वरना वह बिना मतलब के नेता बन जाएगा। श्री अग्रवाल ने आगे जोड़ा कि उनका कार्यकर्ता हर बूथ पर मधुर को जिताने के लिए जी जान से लगेगा और बूथ पर किसी भी प्रकार की हरकत को बदौश्त नहीं किया जाएगा, चाहें इसके लिए उन्हें या उनके कार्यकर्ता को किसी भी हद तक जाना पड़ जाए। उन्होंने कहा कि मधुर नगरपालिका के चेयरमैन बन चुके हैं, बस वोट रूपी जनता के मत की औपचारिकताएं बाकी रह गई है।

यह भी पढ़ें: गुजरात चुनाव : कांग्रेस नहीं काटेगी विधायकों के टिकट, वफादारी पर राहुल का रिटर्न गिफ्ट

भाजपा विधायकों की सिपाही हटाने की हैसियत नहीं, दोनों में फर्क कर जनता करें फैसला- नरेश

रंगोली मंडप के विशाल कार्यकर्ता सम्मेलन में उमड़े हुजूम को संबोधित करते हुए सपा राष्ट्रीय महासचिव राज्यसभा सांसद नरेश अग्रवाल ने कहा कि नितिन ने विपक्ष में रहकर असल कार्यकर्ताओं और ठेकेदारों मे पहचान करना सीख लिया है और उनके तेवर देख उन्हें पूरा भरोसा हो गया है कि वह रहे या ना रहे लेकिन नितिन हरदोई का नाम राजनीति मे रोशन करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि वह हिंदूवादी भी है, मुस्लिमवादी भी और उन्होंने जनता की लड़ाई लड़ने वाले हर जाति धर्म के लोगों का हमेशा साथ दिया है। अपने संबोधन में राज्यसभा सांसद ने सपा प्रत्याशी मधुर से मुखातिब होते हुए कहा कि साथ रहोगे तो बहुत तरक्की करोगे और उन्हें वह जनपद की नहीं बल्कि प्रदेश की राजनीति में देखना चाहते हैं।

कार्यकर्ताओं की गर्मजोशी देख लय में दिख रहे नरेश ने मंडी अध्यक्ष वेद गुप्ता व महामंत्री टीटू गुप्ता पर इशारों ही इशारों मे तंज कसते हुए कहा कि आज जो व्यापारी नेता बनकर ऐठें घूम रहे हैं और भाजपा की सदस्यता लेकर उन्हें ही चुनौती दे रहे, वह जान लें कि उन्हें नेता नरेश ने ही बनाया है, इसलिये विरोध जरा सोच समझकर करें। अपने संबोधन के दौरान उन्होंने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि भाजपा सरकार में अडानी, अंबानी और बाबा रामदेव को छोड़कर सब दुखी है और मुस्लिम समाज का किसी पार्टी को गया एक एक वोट भाजपा को दिए गए वोट के समान होगा।

यह भी पढ़ें: हिमाचल चुनाव : बिलासपुर में कांग्रेस के इस बाहुबली MLA से कैसे निपटेगी BJP ?

उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि आपका नेता नरेश अग्रवाल मंच से प्रधानमंत्री को ललकारता है और भाजपा के विधायक सिपाही के तबादले के लिए मुख्यमंत्री के दरबार में चक्कर लगाते हैं तो आपको गर्व होता है या नहीं, राज्यसभा सांसद के इस सवाल के जबाब में कार्यकर्ताओं ने ‘‘होता है, होता है’’ बोलकर नारेबाजी शुरू कर दी। सम्मेलन के आखिर में उन्होंने कार्यकर्ताओं से मधुर के पक्ष में एक एक वोट डलवाने की बात कहते हुए कहा कि लोग पूछते हैं कि मोदी का देश में विकल्प कौन है, तो वह सुन लें।

नौ महीने की सरकार के बाद अखिलेश रूपी कृष्ण ने भाजपा रूपी कंस के वध की तैयारी पूरी कर ली है और जनता 2019 के चुनावों में बता देगी कि मोदी का विकल्प कौन है। उन्होंने कहा कि भय, भूख, भ्रष्टाचार, सुशासन व सुचिता की बात करने वाली भाजपा आखिरकार फिर मंदिर मुद्दे पर राजनीति करने को मजबूर हो गई है।

Next Story