Top

मतभेद के बावजूद ओमप्रकाश राजभर ने खाई BJP संग रहने की कसम, मिलकर लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 31 Oct 2018 3:33 AM GMT

मतभेद के बावजूद ओमप्रकाश राजभर ने खाई BJP संग रहने की कसम, मिलकर लड़ेंगे लोकसभा चुनाव
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बाराबंकी: सुहेलदेव भारतीय जनता पार्टी के 16वें स्थापना दिवस के मौके पर लखनऊ में महारैली के बहाने सफल शक्ति प्रदर्शन से गदगद ओमप्रकाश राजभर ने एक बार फिर साफ कहा कि हमें मंदिर-मस्जिद नहीं, शिक्षा में विकास चाहिए।

यह भी पढ़ें: LIVE: मोदी केवडिया पहुंचे, देश को कुछ देर में समर्पित करेंगे ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’

बीजेपी से मतभेद होने के बावजूद साथ रहने के कसमें खाने वाले राजभर ने दो टूक शब्दों में कहा कि वह सरकार से अलग नहीं होंगे और भाजपा के साथ मिलकर ही 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ेंगे।

यह भी पढ़ें: सरदार पटेल का वो किस्सा जिसने जवाहर को मौका दिया PM बनने का

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष और योगी सरकार में दिव्यांग कल्याण विभाग के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर आज देवा मेला के मौके पर हाजी वारिस अली शाह बाबा की मजार पर चादर चढ़ाने पहुंचे।

यह भी पढ़ें: दिवाली से दो दिन पहले हो जाएंगे मालामाल, पर करना होगा इस दिन ये काम

चादर चढ़ाने के बाद पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए राजभर ने कहा कि हम बीजेपी के साथ हैं और आगे भी रहेंगे। उन्होंने कहा कि 2019 का लोकसभा चुनाव हम बीजेपी के साथ ही मिलकर लड़ेंगे। इस दौरान राजभर ने कहा कि हमारी बीजेपी से किसी सड़क और बालू के ठेके को लेकर लड़ाई नहीं हैं। हमारी लड़ाई देश में अनिवार्य शिक्षा को लेकर हैं।

यह भी पढ़ें: OnePlus 6T स्मार्टफोन लॉन्च, कीमत 37,999 रुपए से शुरू

बीजेपी से मतभेद होने के बावजूद साथ रहने के कसमें खाने वाले राजभर ने अयोध्या में राम मंदिर के सवाल पर कहा कि हमारे बच्चों को अच्छी शिक्षा चाहिए। राम मंदिर नहीं चाहिए। राजभर ने कहा कि जब कोर्ट में मामला विचाराधीन है तो उस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। बीजेपी नेताओं द्वारा अध्यादेश लाकर मंदिर बनाने के बयानों पर राजभर ने कहा कि यह देश कानून से चलता है।

अलग से अध्यादेश लाकर राम मंदिर बनाना संभव नहीं है। कोर्ट के फैसले के बाद ही यह मसला हल हो सकता है। राजभर ने कहा कि साल 1980 में बीजेपी ने देश के जनता से तीन वादे किए थे। उन्होंने कहा था कि धारा 370 हटाएंगे। देश को हिन्दू राष्ट्र बना देंगे और तीसरा वादा राम मंदिर बनाने का था।

लेकिन तब से लेकर आज तक बीजेपी तीन बार केंद्र और तीन बार प्रदेश में सरकार बना चुकी है। लेकिन अब तक बीजेपी ने अपना एक भी वादा पूरा नही किया। उन्होंने कहा कि जनता ने भाजपा को राम मंदिर के नाम पर वोट दिया था लेकिन भगवान राम अब भी तिरपाल के नीचे ही विराजमान हैं। राजभर ने पूछा कि आखिर बीजेपी को यह तीनों काम पूरा करने से कौन रोक रहा है।

राजभर ने आगे कहा कि हमें आने बच्चों की अच्छी शिक्षा चाहिए। प्रदेश के प्राथमिक विद्यालय में 3.18 लाख पद खाली हैं। सूबे के प्राथमिक विद्यालय में शिक्षा का स्तर खराब है। प्राथमिक स्कूलों में खाली पड़े शिक्षकों के 3.18 लाख पदों पर भर्ती होनी चाहिए। ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि आज मैंने बाबा की मजार पर दो दुआएं मांगी हैं। पहली अपील यह कि इस देश के नेताओं को सदबुद्धि आए। क्योंकि अगर नेता सुधर जेंगे तो देश अपने आप सुधर जाएगा। इसके अलावा मैंने अपनी पार्टी के प्रगति के लिए बाबा से दुआ मांगी हैं।

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story