Top

मायावती बोलीं- PM नया वायदा करने से पहले वादाखिलाफी के लिए जनता से माफी मांगे

aman

amanBy aman

Published on 9 Feb 2017 1:26 PM GMT

मायावती बोलीं- PM नया वायदा करने से पहले वादाखिलाफी के लिए जनता से माफी मांगे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने पीएम नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए कहा है कि वह कोई भी नया वायदा करने से पहले अपनी वादाखिलाफी के लिए जनता से माफी मांगे। गाजियाबाद की अपनी सभा में उन्होंने लोकसभा चुनाव की तरह नए-नए वायदों की बौछार की। जनता को इस तरह बरगलाने का प्रयास निंदनीय है।

मायावती ने गुरुवार (9 फ़रवरी) को एक बयान जारी कर कहा कि पीएम मोदी का यह कहना कि प्रदेश में सरकार बनने पर पहले दिन यह करेंगे। केवल लोगों की आंखों में धूल झोंकने वाली बातें हैं।

3 साल बाद भी नहीं आए 15 लाख

मायावती ने कहा, 'ऐसे ही अनेकों वायदे उन्होंने वर्ष 2014 के चुनाव में भी किए थे, पर सत्ता में आने के पहले 100 दिन तो क्या आज लगभग तीन साल पूरे होने के बाद भी विदेशों से कालाधन नहीं आया और ना ही ग़रीबों को 15 से 20 लाख रुपए बांटे गए हैं। अब तो सरकार विदेशों में जमा कालाधन की चर्चा करने से भी भय खाती है।'

माया ने लोकपाल मुद्दे पर पीएम को घेरा

बसपा प्रमुख ने कहा कि 'जहां तक भ्रष्टाचार से लड़ने के मोदी के दावे का सवाल है तो लोकपाल के गठन के बारे में उनकी सरकार की आपराधिक चुप्पी यह साबित करती है कि दाल में जरूर कुछ काला है। उन्होंने गुजरात में अपनी सरकार में लोकायुक्त का गठन नहीं होने दिया था, जबकि ये दोनों ही संस्थायें भ्रष्टाचार से प्रभावी ढंग से लड़ने के लिए कानूनी तौर से बनाई गई हैं।'

आगे की स्लाइड में पढ़ें पूरी खबर ...

मोदी बाबुओं और राजनेताओं को ही धमकाते रहे

बसपा सुप्रीमो ने आगे कहा, 'पीएम भ्रष्टाचार के मामले में केवल बाबुओं और राजनेताओं को ही धमकाते रहे। पूंजीपतियों के खिलाफ कोई भी सख़्त कानूनी कार्रवाई नहीं। इससे मोदी सरकार की मिलीभगत होने का पर्दाफाश होता है। आम जनता इन बातों को ख़ूब समझती है। उन्हें क़िस्म-क़िस्म की नाटकबाजी से अब और ज्यादा गुमराह नहीं किया जा सकता।'

सपा-बीजेपी में है मिलीभगत

मायावती ने आगे कहा, चुनाव के समय सपा सरकार को कोसने का कोई लाभ बीजेपी को मिलने वाला नहीं है। केंद्र सरकार ने तीन वर्ष में एक बार भी क़ानूनी तौर से सपा सरकार की कोई खबर नहीं ली। और ना ही कोई चेतावनी दी या कार्रवाई ही की। इससे सपा-बीजेपी की आपसी मिलीभगत का भी पता चलता है।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story