Top

स्मृति का तंज, बोलीं- गांधी परिवार के लिए बिग ट्रेजेडी थी 'नोटबंदी'

नोटबंदी को अर्थव्यवस्‍था के लिए एक ऐतिहासिक कदम बताते हुए स्मृति ने कहा कि यह गांधी परिवार के लिए निश्‍चित रूप से एक ट्रेजडी है।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 8 Nov 2017 11:46 AM GMT

स्मृति का तंज, बोलीं- गांधी परिवार के लिए बिग ट्रेजेडी थी नोटबंदी
X
स्मृति का तंज, बोलीं- गांधी परिवार के लिए थी बिग ट्रेजेडी 'नोटबंदी'
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : नोटबंदी को अर्थव्यवस्‍था के लिए एक ऐतिहासिक कदम बताते हुए केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण एवं कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि यह गांधी परिवार के लिए निश्‍चित रूप से एक ट्रेजडी है। कांग्रेस के समय में 2जी, सीडब्ल्यूजी और कोयला घोटाले की गूंज सुनाय देती थी। लेकिन, मोदी सरकार में उनके काम की गूंज चारों ओर सुनाई दे रही है। नोटबंदी देश ही नहीं, दुनिया के आर्थिक जगत में एक ऐतिहासिक कदम था। भ्रष्‍टाचार के खिलाफ इस मुहिम में हमने जनता के माध्‍यम से सफलता प्राप्‍त की है। स्मृति ने नोटबंदी से जुड़ी एक साल की उपलब्धियां गिनाईं। ये बातें स्मृति ईरानी ने बुधवार को लखनऊ में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के प्रदेश मुख्यालय में प्रेस कांफ्रेंस में कहीं। बता दें, कि नोटबंदी का एक साल पूरा होने पर विपक्षी पार्टियां ब्लैक मनी डे और बीजेपी एंटी ब्लैक मनी डे मना रही है।

यह भी पढ़ें ... तुमने देखा नहीं आंखों का समुंदर होना : नोटबंदी की सालगिरह पर RaGa

स्मृति का तंज, बोलीं- गांधी परिवार के लिए थी बिग ट्रेजेडी 'नोटबंदी'

और क्या कहा स्मृति ईरानी ने ?

-केंद्र सरकार ने कालेधन और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए सरकार बनने के बाद से ही काफी कड़े कदम उठाए हैं।

-एक साल पहले पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व में काले धन के खिलाफ नोटबंदी का ऐतिहासिक कदम उठाया गया था।

-काले धन के खिलाफ इस महायज्ञ में सहयोग के लिए हम बीजेपी की ओर से राष्‍ट्र के सभी नागरिकों का आभार प्रकट करते हैं।

-मई 2014 से पहले सुप्रीम कोर्ट ने तत्‍कालीन कांग्रेस नीत सरकार को कालेधन के खिलाफ एक एसआईटी के गठन का आदेश दिया था, लेकिन उसे नहीं माना गया।

-मोदी सरकार के गठन के बाद पहली कैबिनेट में हमने कालेधन के खिलाफ एसआईटी की स्‍थापना का निर्णय लिया।

-28 साल पहले बने बेनामी संपत्ति एक्‍ट को केंद्र की बीजेपी सरकार ने लागू किया।

-गत एक वर्ष में संदिग्‍ध ट्रांसजेक्‍शन की 1.60 लाख से 1.70 लाख की राशि की पड़ताल चल रही है।

-17.77 लाख करोड़ रुपए की करेंसी सर्कुलेशन में थी, जो 3.90 लाख करोड़ रुपए तक घट गई है।

-बैंकों द्वारा सरकार को संदिग्‍ध ट्रांसजेक्‍शन की दी जाने वाली जानकारी में भारी वृद्ध‍ि दर्ज की गई है।

-पिछले साल 61361 संदिग्‍ध ट्रांसजेक्‍शन की तुलना में इस बार 361214 की जानकारी बैंकों द्वारा दी गई।

-अन्‍य वित्‍तीय संस्‍थाओं पिछले वर्ष 40333 की तुलना में इस बार 94836 संदिग्‍ध लेन-देन की जानकारी दी गई।

-इनकम टैक्‍स के सर्वे में अघोषित आय के मामलों में 41 फीसदी की वृद्ध‍ि हुई है।

-सेल्‍फ एसेसमेंट टैक्‍स के मामलों में 32.45 फीसदी की वृद्ध‍ि हुई है।

-इन जानकारियों के कारण 2.24 लाख शेल कंपनियां बंद हो चुकी हैं।

यह भी पढ़ें ... नोटबंदी : लालू का NaMo पर NiNo अटैक, अपर्णा ने कहा- वक्त बताएगा

... तो इसलिए कांग्रेस ने राहुल को नहीं बनाया अध्यक्ष

स्मृति ईरानी ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला बोला और कहा कि कांग्रेस हिमाचल में पहले ही हार मान चुकी है। उन्होंने यह भी कहा कि गुजरात चुनाव में हार के डर से ही राहुल को कांग्रेस का अध्यक्ष घोषित नहीं किया। ईरानी ने कहा कि कांग्रेस के लिए अच्छी खबर नहीं है। पिछले कई चुनावों से चल रहा हार का सिलसिला अगले दो चुनावों में भी जारी रहेगा।

गुजरात चुनाव को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में स्मृति ने कहा, "लोग गुजरात चुनाव की बात कर रहे हैं। हिमाचल की कोई बात ही नहीं कर रहा है। कांग्रेस ने हिमाचल में चुनाव से पहले ही हार मान ली है। रही बात कांग्रेस उपाध्यक्ष की तो मुझे लगता है कि गुजरात की जनता समझती है कि जिससे एक पार्टी नहीं संभलती वह गुजरात को क्या संभालेगा।"

पैराडाइज पेपर्स लीक मामले को लेकर पूछे गए सवाल पर ईरानी ने कहा कि इससे जुड़े मामले की जांच एजेंसियां कर रही हैं। इसीलिए अभी इस बारे में कुछ भी बोलना सही नहीं होगा।

यह भी पढ़ें ... स्मृति का राहुल पर पलटवार, ऐ सत्ता की भूख सब्र कर…खुदगर्जों को जमा कर

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story