Top

पाकिस्तान की बेहूदा हरकतः इस बात पर खून खौल जाएगा आपका

नई दिल्ली। कश्मीर मसले पर दुनिया भर में मुंह की खाने के बाद भी पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। पाकिस्तान के गृहमंत्रालय की ओर से जारी नोटिफ़िकेशन के अनुसार ईद उल अजहा को कश्मीरियों के प्रति एकजुटता दर्शाने के लिए सादगी से मनाने का आह्वान किया।

राम केवी

राम केवीBy राम केवी

Published on 12 Aug 2019 1:11 PM GMT

पाकिस्तान की बेहूदा हरकतः इस बात पर खून खौल जाएगा आपका
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली। कश्मीर मसले पर दुनिया भर में मुंह की खाने के बाद भी पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। पाकिस्तान के गृहमंत्रालय की ओर से

जारी नोटिफ़िकेशन के अनुसार ईद उल अजहा को कश्मीरियों के प्रति एकजुटता दर्शाने के लिए सादगी से मनाने का आह्वान किया।

इसके साथ ही इलेक्ट्रानिक मीडिया से ईद उल अजहा के अवसर पर कोई भी स्पेशल कार्यक्रम प्रसारित न करने को कहा गया। आदेश के अनुसार ऐसा

करने से पाकिस्तान की जनता और कश्मीरी भाइयों की भावनाओं को चोट पहुंच सकती है।

इस संबंध में सभी टीवी चैनलों एफएम रेडियो संचालकों और प्रसारण प्रदाताओं से कश्मीरियों के प्रति एकजुटता दर्शाने को कहा गया।

पाकिस्तान अपने स्वतंत्रता दिवस 14 अगस्त को एकजुटता दिवस के रूप में मनाएगा।

इसके अलावा कश्मीरियों से सहृदयता और एकता व्यक्त करने के लिए 15 अगसत को काला दिवस के रूप में मनाया जाएगा। नोटिफ़िकेशन के

अनुसार 15 अगस्त को पूरे देश में राष्ट्रीय ध्वज झुका रहेगा।

भारत की ओर से 5 अगसत को संसद से प्रस्ताव पारित कराकर राष्ट्रपति के आदेश के जरिये कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त कर दिया गया। जम्मू

कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने से पहले बीते 4 अगस्त से ही राज्य में संचार सेवाओं पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी गई थी। इस पाबंदी में आज

कश्मीर व जम्मू में ढील दी गई। और इस दौरान कहीं से भी किसी अप्रिय घटना का समाचार नहीं है।

पाकिस्तान बेचैन क्यों

भारत द्वारा अपनी संप्रभुता की परिधि में उठाए गए कदमों से पाकिस्तान को क्यों परेशानी हो रही है। इसका मतलब यही है कि पाकिस्तान को अपने नापाक मंसूबे अब खतरे में दिखाई पड़ने लगे हैं।

भारतीय अधिकारियों ने बताया है कि 5 अगस्त से पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्लाह सहित 500 से अधिक स्थानीय नेताओं को हिरासत में लिया जा चुका है।

कश्मीर के श्रीनगर, बारामुला और गुरेज़ सहित ऐसे अन्य स्थानों पर बनाए गए अस्थाई हिरासत केंद्रों में तमाम लोगों को रखा गया है।

राम केवी

राम केवी

Next Story