बहुमूल्य है कांग्रेस का पंजाः ऐसे मिला था इंदिरा गांधी को, जिसने बदल दी तकदीर

1980 के चुनाव में इंदिरा गांधी को अलग लोकसभा का चुनाव लड़ना था। उन्हें चुनाव चिन्ह चाहिए था। कहा जाता है कि इसके लिए इंदिरा गांधी शंकराचार्य के पास गयीं। वह उन दिनों मौन थे। इंदिरा गांधी ने पूछा तो उन्होंने तथास्तु की मुद्रा में हाथ का पंजा उठा दिया।

indira gandhi

कांग्रेस के चुनाव चिह्न के साथ इंदिरा गांधी (फोटोः सोशल मीडिया)

योगेश मिश्र

जीवन में कई बार दुख के भेष में सुख आता है। हमारे लिए दुख के भेष में आये सुख को पहचानना मुश्किल होता है। बात 1977 की है। लोकसभा का यह चुनाव हारने के बाद तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष ब्रह्मानंद रेड्डी ने इंदिरा गांधी को पार्टी से बाहर कर दिया। इसी के साथ उनके हाथ से गाय बछडा का लोकप्रिय चुनाव चिन्ह भी चला गया।

दुख में भी सुख

यह थी तो बहुत परेशानी की बात पर इस दुख में भी इंदिरा गांधी के लिए यह सुख था कि गाय बछड़ा को लोग इंदिरा गाँधी व संजय गांधी से जोड़ कर रूपायित करने लगे थे। प्रचारित किया जाने लगा था। इंदिरा गांधी को लगा चलो इससे तो मुक्ति मिली।

1980 के चुनाव में इंदिरा गांधी को अलग लोकसभा का चुनाव लड़ना था। उन्हें चुनाव चिन्ह चाहिए था। कहा जाता है कि इसके लिए इंदिरा गांधी शंकराचार्य के पास गयीं। वह उन दिनों मौन थे। इंदिरा गांधी ने पूछा तो उन्होंने तथास्तु की मुद्रा में हाथ का पंजा उठा दिया।

congress

फला शंकराचार्य का आशीर्वाद

कहा जाता है कि जिस समय चुनाव चिन्ह के आवंटन की प्रक्रिया निर्वाचन आयोग में चल रही थी उस समय इंदिरा गाँधी नरसिंह राव के साथ आँध्र प्रदेश के प्रवास पर थीं। कांग्रेस आई ने हाथी, साइकिल व हाथ का पंजा तीन चुनाव चिन्ह निर्वाचन आयोग को अपनी ओर से दिये थे।

पार्टी महासचिव बूटा सिंह चुनाव चिन्ह आवंटन के दिन निर्वाचन आयोग में पार्टी की तरफ़ से उपस्थित थे। इंदिरा गाँधी की मंज़ूरी के लिए बूटा सिंह ने टेलीफ़ोन कॉल बुक की। इधर से बूटा उन्हें साइकिल, हाथी और हाथ बताते रहे। लेकिन वो हाथ को ठीक से समझ नहीं पा रही थीं।

आख़िर में उन्होंने फ़ोन का चोगा नरसिंह राव को दे दिया। दर्जन भर भाषाओं के जानकार नरसिंह राव समझ गये कि पंजाबी लहज़े में बोल रहे बूटा सिंह पंजा कह रहे हैं। इस तरह से पंजे पर मुहर लग गई। उधर शंकराचार्य की मुद्रा इंदिरा गांधी को याद हो आई।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App