Top

PMO को लौटा देना चाहिए मोदी को मिला फर्जी अवॉर्ड : थरूर

कांग्रेस नेता शशि थरूर चाहते हैं कि पीएम नरेंद्र मोदी को मिला प्रेसीडेंशियल फिलिप कोटलर अवॉर्ड वापस कर दिया जाए। थरूर ने कहा, ये फर्जी पुरस्कार देश के लिए शर्मिंदगी की वजह बन रहा है पीएमओ को चाहिए कि इसे वापस कर दे। आपको बता दें, पीएम को उनके नेतृत्व और शानदार काम के लिए फिलिप कोटलर प्रेजिडेंशल अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 17 Jan 2019 9:02 AM GMT

PMO को लौटा देना चाहिए मोदी को मिला फर्जी अवॉर्ड : थरूर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : कांग्रेस नेता शशि थरूर चाहते हैं कि पीएम नरेंद्र मोदी को मिला प्रेसीडेंशियल फिलिप कोटलर अवॉर्ड वापस कर दिया जाए। थरूर ने कहा, ये फर्जी पुरस्कार देश के लिए शर्मिंदगी की वजह बन रहा है पीएमओ को चाहिए कि इसे वापस कर दे। आपको बता दें, पीएम को उनके नेतृत्व और शानदार काम के लिए फिलिप कोटलर प्रेजिडेंशल अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है।

ये भी देखें :सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, इन शर्तों के साथ मुबंई में दोबारा खुलेंगे डांस बार

कांग्रेस नेता ने कहा, इस अवार्ड को देने वाली संस्था के बारे में जो मीडिया में रिपोर्ट आई हैं, वो बताती हैं कि ये फर्जी है। ऐसे में पीएम को ये अवार्ड नहीं दिया जाना चाहिए। इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला, तेजस्वी यादव और सीताराम येचुरी इस अवार्ड को लेकर सवाल उठा चुके हैं।

ये भी देखें :मुंबई में फिर से खुलेंगे डांस बार, पर नहीं उछाले जा सकेंगे पैसे

पीएमओ से मिली जानकारी के मुताबिक, फिलिप कोटलर अवॉर्ड पाने वाले मोदी पहले व्यक्ति हैं। देश को शानदार राजनीतिक नेतृत्व, सामाजिक, आर्थिक और पर्यावरण के क्षेत्र में योगदान के लिए फिलिप कोटलर प्रेजिडेंशल अवॉर्ड से नवाजा गया है। पीएम को सोमवार को दिल्ली में यह सम्मान दिया गया।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story