Top

PM और संघ सुप्रीमो एकसाथ काशी में रहेंगे मौजूद, सियासी गलियारे में शुरू हुई अटकलेबाजी

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 10 Nov 2018 11:03 AM GMT

PM और संघ सुप्रीमो एकसाथ काशी में रहेंगे मौजूद, सियासी गलियारे में शुरू हुई अटकलेबाजी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वाराणसी: देश के प्रधानमंत्री और स्थानीय सांसद नरेंद्र मोदी आगामी 12 नवंबर को काशी के दौरे पर पहुंच रहे हैं। इस दौरान वो बनारस की जनता को 24 सौ करोड़ रुपए की योजनाओं की सौगात देंगे। उनके आगमन के मद्देनजर पूरे शहर को दुल्हन की तरह सजाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: छठ पूजा 2018: बिहार के सबसे बड़े पर्व को मनाने के पीछे क्या है लोगों की आस्था,जानने के लिए पढ़ें ये रिपोर्ट

इस बीच प्रधानमंत्री के आगमन के ठीक एक दिन पहले यानि 11 नवंबर को आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत भी काशी दौरे पर पहुंच रहे हैं। मोहन भागवत इस दौरान 16 नवंबर तक शहर में रहेंगे। एक साथ दो दिग्गजों की मौजूदगी के बाद सियासी गलियारे में अटकलों के बाजार गर्म हैं।

क्या होगी भागवत और मोदी की मुलाकात?

अब सवाल ये है कि क्या इस दौरान मोहन भागवत और पीएम नरेंद्र मोदी की मुलाकात संभव है ? इसे लेकर इन दिनों शहर में तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। कुछ लोग दोनों दिग्गजों की मौजूदगी को राम मंदिर निर्माण से जोड़कर देख रहे हैं तो कुछ पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के परिपेक्ष्य में देख रहे हैं।

यह भी पढ़ें: …तो क्या पीएम मोदी ने सोची समझी रणनीति के तहत दिया था ‘अर्बन नक्सलवाद’ पर ये बयान!

इस बात को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं कि संभवत पीएम नरेंद्र मोदी अपने व्यवस्त दौरे के बीच मोहन भागवत से मिल सकते हैं। हालांकि पीएम के आरंभिक प्रोटोकॉल में इसकी संभावना कम है। एक दिवसीय दौरे पर पीएम का कार्यक्रम बेहद व्यवस्त है। मोदी रामनगर बंदरगाह का उद्धाटन करने के बाद वाजिदपुर में एक जनसभा को संबोधित करेंगे। साथ ही रोड शो करने की भी संभावना है।

250 प्रचारकों के साथ भागवत करेंगे गुफ्तगु

इस बीच मोहन भागवत 11 से लेकर 16 नवंबर को शहर में मौजूद रहेंगे। वे छह प्रांतों के 250 प्रचार प्रमुखों के साथ मंथन करेंगे। वे छह दिनों तक कोईराजपुर में देशभर से जुटे संघ प्रचारकों को राष्ट्रवाद का पाठ पढ़ाएंगे। संभावना है कि इस शिविर में राम मंदिर निर्माण पर भी कोई योजना बने। दरअसल सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर आरएसएस पहले ही आपत्ति जता चुका है और उसने इस फैसले को जनविरोधी बताया था।

यह भी पढ़ें: इस गांव में 13 घंटे नाइट गाउन नहीं पहन सकती महिलाएं, पकड़े जाने पर भरना होगा जुर्माना

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story