Top

पुलिसिया व्‍हाट्सएप ग्रुप पर पीएम मोदी का अपमान, बीजेपी पार्षद ने दर्ज कराया केस

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 29 Oct 2018 3:15 PM GMT

पुलिसिया व्‍हाट्सएप ग्रुप पर पीएम मोदी का अपमान, बीजेपी पार्षद ने दर्ज कराया केस
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुरादाबाद: यूपी के मुरादाबाद में पुलिस द्वारा बनाये गए सोशल मीडिया ग्रुप पर देश के प्रधानमंत्री मोदी पर की गई अप्पतिजनक टिप्पणी के बाद से हड़कंप मचा हुआ है। इस मामले में एक क्षेत्रीय भाजपा पार्षद ने पोस्ट डालने वाले आरोपी के खिलाफ थाने में तहरीर देकर कार्यवाही की मांग की है।

ये भी पढ़ें:गजब! एटा में दो बच्चों के बाप को लेकर भागी किशोरी, लेकिन पकड़ी कैसे गई

पुलिस कप्‍तानों ने बनाया था ग्रुप

यूपी के पुलिस मुखिया यानि डीजीपी के निर्देश पर सभी जनपदों के पुलिस कप्तानों द्वारा अपने जिलों के सभी थानों में सुविधा हेतु सोशल मीडिया पर व्हाट्सएप ग्रुप बनाये गए थे। इसका उद्देश्य था कि क्षेत्र की जनता और पुलिस में सही सामंजस्य बन सके। लेकिन पिछले कुछ दिनों से इन ग्रुपों में कुछ शरारती तत्वों द्वारा विवादित फोटो या कमेंट पोस्ट करके विवाद खड़े किए जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें:इमरजेंसी श्रेणी में आते ही प्राधिकरण ने लागू किया ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान

नागफनी थाने का है व्‍हाट्सएप ग्रुप

ताजा मामला उस समय सामने आया, जब थाना नागफनी के सोशल मीडिया ग्रुप में देश के प्रधानमंत्री मोदी की तुलना फिल्मी खलनायक अमरीश पुरी से करते हुए कुछ आपत्तिजनक पोस्ट भी डाल दी गई। पीएम मोदी को गुंडा बताया गया। जिसके बाद से पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है।

ये भी पढ़ें:राजस्व परिषद के सदस्यों को राज्यों के चुनाव में ड्यूटी पर भेजने को चुनौती

बीजेपी पार्षद ने दर्ज कराया केस

इस पोस्ट के विरोध में आज भाजपा की क्षेत्रीय पार्षद रुचि चौधरी ने लिखित में शिकायत करते हुए पुलिस के आला अधिकारियों से मांग की है कि ऐसे समाज विरोधी लोगों को चिन्हित करते हुए उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाए। जो देश के प्रधानमंत्री के विषय में सार्वजनिक रूप से आपत्तिजनक पोस्ट वायरल करता हो, वह समाज के लिए ठीक नहीं है। इस पूरे मामले में कोई भी अधिकारी बोलने को तैयार नहीं है।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story