Top

प्रियंका को लोकसभा नहीं विधानसभा इलेक्शन के लिए हथियार बनाया है राहुल ने

कांग्रेस के कार्यकर्ता और समर्थक प्रियंका गांधी वाड्रा के महासचिव बनने के बाद से उम्मीदों की मशाल जलाए हुए हैं लेकिन पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने साफ़ कर दिया कि वो दो महीने में प्रियंका और ज्योतिरादित्य सिंधिया से चमत्कार की उम्मीद नहीं करते हैं।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 8 Feb 2019 4:08 AM GMT

प्रियंका को लोकसभा नहीं विधानसभा इलेक्शन के लिए हथियार बनाया है राहुल ने
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : कांग्रेस के कार्यकर्ता और समर्थक प्रियंका गांधी वाड्रा के महासचिव बनने के बाद से उम्मीदों की मशाल जलाए हुए हैं लेकिन पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने साफ़ कर दिया कि वो दो महीने में प्रियंका और ज्योतिरादित्य सिंधिया से चमत्कार की उम्मीद नहीं करते हैं।

राहुल ने कहा कि इन दोनों को आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर कोई दबाव महसूस नहीं करना चाहिए बल्कि यूपी के अगले विधानसभा चुनाव को देखते हुए पार्टी का आधार मजबूत करने में जुटना चाहिए।

ये भी देखें :प्रियंका का 11 फरवरी को लखनऊ में रोड शो, करेंगी चुनाव अभियान का आगाज

आपको बता दें, महासचिव नियुक्त होने के बाद पहली बार प्रियंका कांग्रेस की बैठक में अधिकारिक तौर पर शामिल हुई थीं। इस बैठक में चुनावी रणनीति, गठबंधन और उम्मीदवारों को लेकर बात हुई।

सूत्रों के मुताबिक प्रियंका ने प्रस्ताव दिया की फरवरी के अंत तक पार्टी यूपी में अपने उम्मीदवारों का चयन कर नाम घोषित कर दे। ताकि प्रचार के लिए अधिक समय मिल सके। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जो नेता दो चुनाव लगातार हार चुके हैं उन्हें इसबार मैदान में नहीं उतारना चाहिए बल्कि उन्हें संगठन की जिम्मेदारी दी जाए।

ये भी देखें : ‘राहुल-प्रियंका’ पर अमर्यादित टिप्पणी करने का मामला: कथित आरएसएस नेता के खिलाफ FIR

प्रियंका गांधी ने कहा, मैंने बीजेपी और आरएसएस की विचारधारा को हराने की ठान रखी है। बीजेपी और आरएसएस की विचारधारा को जवाब दिया जाना चाहिए।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story