Top

पूर्वांचल एक्सप्रेस वे: मायावती का दावा उनकी सरकार में ही शुरू हुआ काम

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 14 July 2018 1:42 PM GMT

पूर्वांचल एक्सप्रेस वे: मायावती का दावा उनकी सरकार में ही शुरू हुआ काम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: पूर्वांचल एक्सप्रेस को लेकर यूपी के प्रमुख सियासी दलों के बयान पढे जाएं तो गुदगुदी होती है। पीएम नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को इस योजना का शिलान्यास किया। सपा मुखिया अखिलेश यादव ने कहा कि योगी सरकार इस परियोजना का दोबारा फीता काट रही है। इसका शिलान्यास उनकी ही सरकार में हो चुका है। इधर बसपा सुप्रीमों मायावती ने उनकी ही सरकार में परियोजना पर आधारभूत काम शुरू करने का दावा ठोंक दिया है।

पुरानी परियोजना है पूर्वांचल एक्सप्रेसवे

बसपा मुखिया ने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस—वे नई नहीं बल्कि पुरानी परियोजना है। मोदी सरकार सत्ता में आने के बाद अगर सही समय पर इसे लागू कर देती तो चुनाव के समय इसका उद्घाटन हो सकता था।

एनओसी नहीं मिलने से अटका था प्रोजेक्‍ट

मायावती ने शनिवार को एक बयान जारी कर कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे, जेवर अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा व ग्रेटर नोएडा से बलिया तक 8-लेन वाली गंगा एक्सप्रेस-वे की रूपरेखा बीएसपी सरकार में तैयार हो चुकी थी। इस पर आधारभूत काम भी शुरू करवा दिया गया था। उनकी ही सरकार में ताज एक्सप्रेस-वे को पूरा कराया गया था। उनका कहना है कि बाकि कामों को भी काफी हद तक बसपा सरकार में ही पूरा किया जा सकता था। यदि केंद्र की तत्कालीन कांग्रेस सरकार इसके लिए एनओसी देती, तो ये प्रोजेक्‍ट अटकता ही नहीं।

पूर्वांचल के विकास को किए काम गिनाए

मायावती ने कहा कि पूर्वांचल के विकास के लिए बसपा सरकार में मिर्जापुर और बस्ती को मंडल बनाया गया। चंदौली को नया जिला बनाया गया। दर्जनों नये तहसील बनें। केंद्र सरकार से 36 हजार करोड़ रूपये के विशेष आर्थिक पैकेज की माँग की। पूर्वांचल राज्य बनाने का प्रस्ताव विधानसभा से पारित करके केन्द्र के पास भेजा जो लम्बित है। मायावती ने कहा कि बीजेपी सरकार को पूर्वांचल व बुन्देलखण्ड के विकास के लिये विशेष सहायता मंजूर करनी चाहिए। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के लिए सरकार द्वारा 12,000 करोड़ रूपया बैंकों से कर्ज लिया जायेगा।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story