Top

इंदिरा की मूर्ति तोड़े जाने से भड़के राज बब्बर...हाफ पेंट वालों तुम्हारा दिमाग भी हाफ हो चुका

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 8 July 2017 1:39 PM GMT

इंदिरा की मूर्ति तोड़े जाने से भड़के राज बब्बर...हाफ पेंट वालों तुम्हारा दिमाग भी हाफ हो चुका
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुज़फ्फरनगर : कस्बा खतौली में 6 जुलाई की रात को कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी की मूर्ति तोड़े जाने का मामला तूल पकड़ने लगा है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर खतौली पहुंचे और अपना गुस्सा जाहिर करते हुए धरने पर बैठ गए। धरने के दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओ के बीच धक्का-मुक्की भी हुई। इस दौरान मंसूरपुर थानाध्यक्ष केपीएस चाहल के पैर में चोट लग गई और एक व्यक्ति भी घायल हुआ है।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने जिला प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर 28 तारीख तक तोड़ी गई प्रतिमा दुबारा नहीं लगवाई जाती तो बड़ा आंदोलन किया जाएगा।

राजबब्बर ने कहा कि वो लोग कान खोल कर सुन लें, जो मूर्तियों को खंडित करते हैं। वो इस देश के विचार को ख़त्म करना चाहते है। पहले सहारनपुर में मूर्ति को खंडित किया, मिर्जापुर में राजीव गाँधी की मूर्ति को खंडित किया। अब यहाँ खतौली में इंदिरा गाँधी की मूर्ति खंडित की।

उन्होंने बीजेपी सरकार पर हमला करते हुए कहा, जिस दिन से दिल्ली में ये सरकार आई है, उस दिन से नेहरू गाँधी और देश के फ्रीडम फाइटर का इतिहास ख़त्म करने में लगी हुई है। ये मूर्ति खंडित करने की बात नहीं है, ये विचार को ख़त्म करना चाहते है। उस विचार को ख़त्म करना चाहते है जिसमें भाईचारा है, तरक्की है...गरीब, किसान, मजदूर नौजवान , एकता के साथ जीना चाहता है, अपनी ताकत के साथ जीना चाहता है।आरएसएस का नाम लिए बगैर बब्बर ने कहा कि तुम भूल गए हो हाफ पेंट पहनने वालों तुम्हारा दिमाग भी हाफ हो चुका है। तुम भूल रहे हो कि तुमने इंदिरा गाँधी की नाक पर चोट नहीं पहुंचाई, बल्कि इस देश की नाक को चोट लगाने का काम किया है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story