Top

अब्दुल्ला बोले- भगवान राम सिर्फ हिंदुओं के नहीं, मैं भी एक पत्थर लगाने जाऊंगा

Rishi

By Rishi

Published on 4 Jan 2019 9:00 AM GMT

अब्दुल्ला बोले- भगवान राम सिर्फ हिंदुओं के नहीं, मैं भी एक पत्थर लगाने जाऊंगा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला ने कहा है कि अयोध्या में राम मंदिर-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद का मसला कोर्ट के बाहर बातचीत से हल होना चाहिए। भगवान राम सिर्फ हिंदुओं के नहीं है, वो तो पूरी दुनिया के हैं।

अब्दुल्ला ने कहा, अयोध्या मु्ददे पर सभी पक्षों को मेज पर बैठकर इसे हल करने की कोशिश करनी चाहिए। मुझे भरोसा है इसे बातचीत से ही हल किया जा सकता है। भगवान राम से किसी को बैर नहीं है, ना ही होना चाहिए। कोशिश करनी चाहिए सुलझाने की और बनाने की। जिस दिन यह हो जाएगा, मैं भी एक पत्थर लगाने जाऊंगा।

इससे पहले जमीयत उलमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना सैय्यद अरशद मदनी ने कहा कि हम अदालत के फैसले का सम्मान करेंगे। लेकिन इसके लिए दूसरे पक्षकार और फिरकापरस्त तंजीमें तैयार नहीं है।

ये भी देखें : बाबर ने मंदिर तोड़ा था, लेकिन मोदी ने देश के लोगों का विश्वास तोड़ा : तोगड़िया

मदनी ने कहा कि सुनवाई के लिए जमीयत उलमा-ए-हिंद के वकीलों का पैनल पूरी तैयारी कर चुका है। वकीलों ने अदालत में मस्जिद से जुड़े तमाम प्राचीन दस्तावेज भी मुहैया कराए हैं। यह एक मजहबी मामला नहीं बल्कि संविधान और कानून के सम्मान से जुड़ा मामला है। इसलिए आस्था की बुनियाद पर इस पर कोई फैसला नहीं हो सकता।

ये भी देखें : सुप्रीम कोर्ट : राम मंदिर पर SC की सुनवाई अब 10 जनवरी को होगी

मुसलमान इस मुल्क के शांतिप्रिय शहरी हैं और मुल्क के संविधान का साफ दिल से सम्मान करते हैं। हकीकत से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि इस मुकदमे को लेकर अदालत पर फिरकापरस्त ताकतों की और से जबरदस्त दबाव बनाने की कोशिशें हो चुकी हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story