Top

दलित वोटों की जंग में उतरा नया खिलाड़ी ...नाम तो सुना होगा रामदास अठावले

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 8 Jun 2018 1:37 PM GMT

दलित वोटों की जंग में उतरा नया खिलाड़ी ...नाम तो सुना होगा रामदास अठावले
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर : केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले कानपुर में थे। यहां उन्होंने सूबे में नए बने सपा-बसपा गठबंधन पर जमकर अपनी भड़ास निकाली। इसके साथ ही मंत्री ने कहा कि नक्सलवादियों ने पीएम को धमकी दी है। जिसमें राजीव गांधी जैसा हाल करने का जिक्र किया है। पीएम ईट का जवाब पत्थर से देंगे। जो आतंकवादी संगठन है, नक्सलवादी संगठन है, उन्हें बाबा साहब आंबेडकर का नाम लेना छोड़ना चाहिए।

ये भी देखें : राग – ए- दरबारी: चक्कलस छोड़िए… चैलेंज और भी हैं जमाने में

उन्होंने कहा कि भीमा कोरे गांव से यलगार परिषद का कोई संबंध नहीं है। वहां हिंसा हुई थी, पथराव हुआ था। इसमें 5 लोग पकड़े गए हैं। पुलिस का कहना है कि इनके नक्सलियों से संबंध हैं। यदि वो आंबेडकरवादी होंगे तो इन्हें नक्सली नहीं समझना चाहिए। यदि वो सही में नक्सलवादी हैं तो उनपर कार्रवाई होनी चाहिए।

सपा बसपा पर बरसे रामदास

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सपा बसपा इकठ्ठा आ कर बीजेपी को हराना चाहते हैं। लेकिन रिपब्लिकन पार्टी बीजेपी का साथ देकर सपा-बसपा के गठबंधन को हराना चाहती है। हम यहां पर दलितों की ताकत को दिखाना चाहते हैं। रिपब्लिकन पार्टी यूपी में बहुत बड़ी पार्टी थी। चरण सिंह की सरकार में हमारे चार मंत्री हुआ करते थे। हमारे 19 एमएलए चुनकर आए थे। मायावती ने हमारी जमीन पर कब्जा कर लिया। दलित के वोटो पर सिर्फ मायावती का अधिकार नहीं है। रिपब्लिकन पार्टी का भी अधिकार है।

उन्होंने कहा जिस प्रकार 2014 के चुनाव में 14 फीसदी दलितों का वोट नरेंद्र मोदी को मिला था। उसी प्रकार हमारी पार्टी कोशिश करेगी कि ज्यादा से ज्यादा दलितों का वोट बीजेपी को मिले। मायावती कितनी भी कोशिश कर लें मोदी के सामने टिकना मुश्किल है। अखिलेश यादव और मायावती की दुश्मनी थी। दोनों एक दूसरे का मुंह देखना नही पसंद करते थे। आज एक दूसरे का मुंह देख रहे हैं।

ये भी देखें : मुख्तार अब्बास नकवी के विवादित बयान ने मचाया घमासान, आगरा में पुतले को तलवारों से गोदा

यूपी का जमाई हूं

उन्होंने कहा मैं यूपी का जमाई हूं। मेरी ससुराल बनारस में है। मैं मुंबई में रहता हूं। यूपी के लोगों से अपील करना करता हूं कि आप लोगों ने बहन की तरफ बहुत बार देखा है, अब जमाई को देखने का काम करें।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story