Top

मोदी कैबिनेट : सत्यपाल का कमिश्नर से मिनिस्टर बनने तक का सफर

राजनीति में आने के लिए सत्यपाल सिंह ने पुलिस की नौकरी छोड़ी थी। वो मुंबई के पुलिस कमीश्नर थे। राजनीति में वो आए और यूपी की बागपत सीट से राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) अध्यक्ष और जाटों में अपना खास प्रभाव रखने वाले अजित सिंह के लिए लोकसभा का दरवाजा बंद कर दिया। रविवार को उन्हें पीएम मोदी ने अपने मंत्रिमंडल में जगह दे दी। सत्यपाल को शिक्षा राज्य मंत्री बनाया गया है।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 3 Sep 2017 11:53 AM GMT

मोदी कैबिनेट : सत्यपाल का कमिश्नर से मिनिस्टर बनने तक का सफर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : राजनीति में आने के लिए सत्यपाल सिंह ने पुलिस की नौकरी छोड़ी थी। वो मुंबई के पुलिस कमीश्नर थे। राजनीति में वो आए और यूपी की बागपत सीट से राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) अध्यक्ष और जाटों में अपना खास प्रभाव रखने वाले अजित सिंह के लिए लोकसभा का दरवाजा बंद कर दिया। रविवार को उन्हें पीएम मोदी ने अपने मंत्रिमंडल में जगह दे दी। सत्यपाल को शिक्षा राज्य मंत्री बनाया गया है।

61 साल के सत्यपाल सिंह आईपीएस ज्वाइन करने के पहले वैज्ञानिक बनना चाहते थे। लेकिन किस्मत में पुलिस अधिकारी बनना था। वो 1980 बैच के महाराष्ट्र कैडर के अधिकारी थे।

सत्यपाल मानते हैं कि पुलिस की नौकरी छोडने के पहले उन्होंने अंतरात्मा की आवाज सुनी। वो राजनीति में आए और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में शामिल हुए। चूंकि वो तेजतर्रार अधिकारी थे इसलिए बीजेपी हाईकमान ने उन्हें 2014 के लोकसभा चुनाव में जाट बहुल बागपत से टिकट दे दिया।

यह भी पढ़ें … लालकृष्ण आडवाणी को गिरफ्तार करने वाले आर.के. सिंह बने मोदी के मंत्री

सत्यपाल जानते थे कि उनका मुकाबला आसान नहीं है क्योंकि उनके सामने चौधरी चरण सिंह के बेटे और जाटों में खास रसूख रखने वाले रालोद के अध्यक्ष अजित सिंह थे। लेकिन सत्यपाल सिंह ने अजित सिंह को पटखनी दे दी।

सत्यपाल की पहली पोस्टिंग नासिक में असिस्टेंट सुपरीटेंडेंट के पद पर हुई। इसके बाद उन्हें बुलधाना में पुलिस अधीक्षक बनाया गया।

यह भी पढ़ें … निर्मला सीतारमण ही नहीं, इन देशों में भी रक्षा की कमान है महिला हाथों में

मुंबई का पुलिस कमीश्नर बनने से पहले वो महाराष्ट्र के अपर पुलिस महानिदेशक थे। वो मुम्बई पुलिस की अपराध शाखा में संयुक्त कमीश्नर भी रहे। सत्यपाल कुछ समय के लिए सीबीआई में भी डेपुटेशन पर रहे। नक्सल प्रभावित आंध्रप्रदेश और मध्यप्रदेश में उनके काम के लिए उन्हें प्रेसिडेंट से 2004 में मेडल भी मिल चुका है।

बता दें, कि पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार (3 सितंबर) अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया। इस सरकार के तीन साल पूरे हो गए हैं। मोदी कैबिनेट का यह तीसरा विस्तार है। इस विस्तार में नौ नए चेहरों को शामिल किया गया है।

यह भी पढ़ें … अश्विनी चौबे टीम मोदी का हिस्सा, 11 हजार शौचालय बनवाकर आए थे चर्चा में

इसके अलावा चार मौजूदा मंत्रियों को भी उनके प्रदर्शन के आधार पर तरक्की दी गई है। धर्मेंद्र प्रधान, पीयूष गोयल, निर्मला सीतारमण और मुख्तार अब्बास नकवी का इसी आधार पर प्रमोशन हुआ है।

मोदी कैबिनेट में शामिल 9 नए चेहरे

-सत्यपाल सिंह

-अल्फाेन्स कन्ननथानम

-अश्विनी कुमार चौबे

-डॉ. वीरेंद्र कुमार

-शिव प्रताप शुक्ल

-आर के सिंह

-अनंत कुमार हेगड़े

-गजेंद्र सिंह शेखावत

-हरदीप सिंह पुरी

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story