Top

तो क्या बीजेपी हटाना चाहती है नोट से गांधी जी की तस्वीर ?

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 11 Jun 2017 11:19 AM GMT

तो क्या बीजेपी हटाना चाहती है नोट से गांधी जी की तस्वीर ?
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर : महात्मा गाँधी को चतुर बनिया बताने वाले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का बयान उनके लिए गले की हड्डी बन चुका है। शाह के बयान से नाराज यूपी के कानपुर में सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शाह की अर्थी निकाल, उसे आग के हवाले कर दिया।

पुतले को जलता देख पुलिस हरकत में आ गई और आग बुझाने में जुट गई। इसपर कांग्रेस नेता भड़क गए। फिर क्या था, बल प्रयोग कर उन्हें खदेड़ दिया गया।

ये भी देखें : रायपुर में बोले अमित शाह- चतुर बनिया थे महात्मा गांधी, जानते थे कांग्रेस की कमजोरी

जिस तरह से शाह ने देश के राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी को चतुर बनिया की पदवी से नवाज़ा, उससे कांग्रेस काफी नाराज है। स्थानीय नेताओं ने पूर्व केंद्रीय मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल के नेतृत्व में केपी रोड इलाके में पुलिस धता बताते हुए अमित शाह की अर्थी और पुतला दहन किया।

इस मौके पर पूर्व मंत्री ने कहा, कि बीजेपी की मंशा है कि वह गाँधी जी के स्थान पर अपने किसी नेता को प्रतिस्थापित कर दे। उन्होंने कहा कि आक्रोश थमा नही है, जिस तरह से गाँधी जी को चालाक चतुर कहा गया, क्या गाँधी जी चालाक थे। गाँधी जी को एक कौम एक जाति में बांधने की कोशिश की गई है। कांग्रेस कार्यकर्ता इस आक्रोश के खिलाफ यहाँ पर मौजूद हुए हैं।

उन्होंने कहा अहंकार इतना हो गया है, कि वह खुद को गाँधी जी से ज्यादा श्रेष्ट समझने लगे है।

जिला अध्यक्ष हरप्रकाश अग्निहोत्री ने कहा बीजेपी नेता नोटों से गाँधी जी की फोटो हटाना चाहते है, और अपने किसी नेता की फोटो उस पर चस्पा करना चाहते है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story