Top

सपा ने चुनाव के पहले मानी हार, रही सही कसर परिवार की कलह ने कर दी पूरी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 28 July 2018 4:15 PM GMT

सपा ने चुनाव के पहले मानी हार, रही सही कसर परिवार की कलह ने कर दी पूरी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : सपा के ईवीएम की बजाए बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग पर भाजपा ने पलटवार किया है। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी का कहना है कि लोकसभा चुनाव में उतरने से पहले ही सपा ने ईवीएम की बजाय बैलेट पेपर से चुनाव कराये जाने का पुराना घिसा-पिटा राग छेड़कर अपनी हार स्वीकार कर ली है। उन्हें यह अंदाजा लग गया है कि यूपी से उनका पूरी तरह सफाया हो चुका है। आने वाले दिनों में भी उसके लिए कोई उम्मीद नहीं बची है।

सपा नेताओं ने किया बैठक का बहिष्कार

त्रिपाठी ने कहा कि रही सही कसर पार्टी और परिवार में चल रही कलह ने पूरी कर दी है जिसका नजारा तब देखने को मिला जब पार्टी की राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक का खुद परिवार और पार्टी के तमाम नेताओं ने बहिष्कार कर दिया। इसीलिए हताश और निराश पार्टी न सिर्फ किसी भी तरह के गठबंधन के लिए मजबूर दिख रही है बल्कि अभी से चुनावी हार का ठीकरा ईवीएम मशीन पर फोड़ने की तैयारी में भी जुट गयी है।

चुनावी हार का तलाश लिया बहाना

शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा कि पिछले दिनों ईवीएम मशीन को लेकर हारे हुए दलों की तरफ से उठाये गये बेबुनियाद सवालों का जबाव देने के लिए जब चुनाव आयोग ने ईवीएम मशीनें रखकर उसे हैक करने की चुनौती दी तब कोई भी दल ये चुनौती स्वीकार करने की हिम्मत नहीं जुटा पाया। ईवीएम मशीने रखी रहीं और ईवीएम पर सवाल उठाने वाले दल एक भी आरोप साबित नहीं कर पाये। ईवीएम हैक होने का दावा करने वाले सियासी दल चुनाव आयोग के बुलाने के बावजूद ईवीएम के पास तक नहीं फटके। ऐसे में एक बार फिर ईवीएम पर राग अलाप कर सपा ने लोकसभा चुनाव में होने जा रही अपनी बड़ी हार का बहाना तलाश लिया है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story