Top

मुझे हराने की हो रही साजिश, अपमान नहीं हुआ तो 11 मार्च के बाद पार्टी के साथ: शिवपाल

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 22 Feb 2017 11:00 AM GMT

मुझे हराने की हो रही साजिश, अपमान नहीं हुआ तो 11 मार्च के बाद पार्टी के साथ: शिवपाल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव के चाचा और मुलायम सिंह के भाई शिवपाल यादव ने बुधवार को एक न्यूज एजेंसी से कहा, ''मैं समाजवादी पार्टी के टिकट से चुनाव लड़ रहा हूं तो पार्टी में ही हूं। अगर 11 मार्च के बाद अपमान न हुआ तो फिर हम साथ हैं। बीजेपी के साथ मिलकर साजिश की जा रही है।'' बता दें कि शिवपाल जसवंतनगर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं।

यह भी पढ़ें...अखिलेश यादव बोले- अगर परिवार में ना होता झगड़ा तो कांग्रेस से नहीं करना पड़ता गठबंधन

और क्या बोले शिवपाल यादव ?

-मैं हमेशा से जसवंतनगर से जीता हूं। इस चुनाव में कुछ लोग बीजेपी के साथ मिलकर मेरे खिलाफ साजिश कर रहे हैं।

-मैं चाहता था कि नेताजी का सम्मान हमेशा रहे। मैं नेताजी के साथ हूं, उनका जो आदेश होगा, वो ठीक है।

-मैं कांग्रेस कैंडिडेट्स का प्रचार करना नहीं चाहता। अगर नेताजी चाहेंगे तो जाऊंगा।

-सच कहूं तो मैंने अभी तक समाजवादी पार्टी के लिए भी कैंपेन करने का सोचा नहीं है।

यह भी पढ़ें..शिवपाल के लिए प्रचार के दौरान बोले मुलायम- अब क्या कहें सरकार भी अपनी ही है और लड़का भी

चाचा पर भतीजे ने किया था जुबानी वार

अखिलेश यादव ने 16 फरवरी को इटावा में चाचा शिवपाल पर तंज कसते हुए कहा था कि हमने सुना है, यहां नई पार्टी बनने जा रही है, ये आरोप तो हम पर लगता था। जिन्होंने नेताजी और मेरे बीच खाई पैदा की है, इटावा के लोग उसे सबक सिखाने का काम करें। 'जिन पर हमने भरोसा किया, उन्होंने मुझे और नेताजी को लड़ा दिया। पता नहीं वो राजनीति थी या स्वार्थ था। इन लोगों ने साजिश की, जब साजिश का पर्दाफाश हुआ तो कहते हैं कि विरासत में कुछ नहीं मिला। इस पर शिवपाल ने कहा था कि उनके ऊपर नेताजी का आशीर्वाद है। लोगों का समर्थन है। मुझे कुछ नहीं कहना।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story