Top

शिवपाल यादव की ललकार- बीजेपी को हटाने की हैसियत हमारे सेक्‍युलर मोर्चे में है

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 18 Oct 2018 1:31 PM GMT

शिवपाल यादव की ललकार- बीजेपी को हटाने की हैसियत हमारे सेक्‍युलर मोर्चे में है
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के संयोजक शिवपाल सिंह यादव गुरूवार को बोले जरा सपा से पूछ लो कि भारतीय जनता पार्टी को सत्ता से हटाने की हैसियत है। हमारे समाजवादी सेक्युलर मोर्चे की हैसियत है कि बीजेपी को हटा दे और परिवर्तन लायें। हम परिवर्तन लाकर व्यवस्था परिवर्तन करेंगे। नौजवानों, किसानों, अल्पसंख्यकों को सबको न्याय मिले किसी के साथ अन्याय न हो। हम ऐसी व्‍यवसथा बना देंगे।

हालांकि इस मौके पर उनका दर्द भी छलका। उन्होंने कहा कि मैं सपा में रहना चाहता था। मुझे धकेला गया। अपमानित किया और बाहर किया गया।

तेजी से बढ़ रहा मोर्चा

शिवपाल यादव मोर्चा की महिला प्रकोष्ठ की कार्यकर्ता हेमलता शुक्ला के घर पहुंचे और मीडिया से बात करते हुए कहा कि समाजवादी सेक्युलर मोर्चा का बहुत तेजी से विकास हो रहा है। बड़ी सख्या में मोर्चे से कार्यकर्ता जुड़ रहे हैं।

जब शिवपाल से पूछा गया कि सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चे को बीजेपी की एबीसीडी पार्टियां बताया था। तो इसका जवाब देते हुए शिवपाल सिंह यादव का दर्द छालक पड़ा, उन्होंने कहा कि हम बीजेपी के खिलाफ बोल रहे हैं, फिर मुझे मौका किसने दिया। हम तो वहीं रहना चाहते थे। मैंने इन्तजार भी किया। जब मुझे धकेला गया। अपमानित किया गया। मेरे साथ जाने कितने लोगो को अपमानित किया गया है। वो पार्टी नेताजी ने बनाई थी और उनके साथ हम भी लगे रहे, तभी तो बनी थी। नेता जी का अपमान हुआ और उनके साथ हम भी लगे रहे, तभी तो बनी थी।

भारतीय जनता पार्टी को हटाने की है हैसियत पूछ लो, नहीं है हैसियत। हमारे समाजवादी सेक्युलर मोर्चे की हैसियत है, हम बीजेपी को हटाएंगे और परिवर्तन लायेंगे। परिवर्तन लाकर व्यवस्था बदलेंगे, नौजवानों, किसानों, अल्पसंख्यको को सबको न्याय मिले। किसी के साथ अन्याय न हो। बीजेपी को हटाने के लिए मै गठबंधन बना रहा था। नितीश, लालू , ओम प्रकाश चौटाला, शरद यादव, अजीत सिंह सभी को एकजुट कर रहा था। नेताजी के नेतृत्व में सभी दल विलय कर रहे थे। यह किसने तोड़ा पूछिए जरा। हम तो समाजवादी पार्टी को मजबूत कर रहे थे। जब हम मजबूत कर रहे थे तो मुझे ही अलग कर दिया। आप बनाइए गठबंधन लेकिन मुझे अपना शेयर चाहिए।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story