Top

शिवपाल- मुलायम संग रामगोपाल ने मनाया बर्थडे, शिवपाल ने कहा- दोबारा करें संघर्ष

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 29 Jun 2018 11:41 AM GMT

शिवपाल- मुलायम संग रामगोपाल ने मनाया बर्थडे, शिवपाल ने कहा- दोबारा करें संघर्ष
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

फिरोजाबाद : समाजवादी कुनबे का झगड़ा अब थमता नजर आ रहा है। शुक्रवार को समाजवादी नेता रामगोपाल यादव के 72 वें बर्थडे पर शिवपाल यादव और मुलायम सिंह यादव का उनके साथ मंच साझा करके बधाई देना तो इसी बात की ओर इशारा करता है। हालांकि शिवपाल यादव के बयान ने साफ कर दिया कि वह अभी पिछले झगड़े को पूरी तरह भुला नहीं पाए हैं। इसके साथ ही उन्‍होंने देश को भ्रष्‍टाचार और अघोषित इमरजेंसी से बचाने के लिए दोबारा एकजुट होकर संघर्ष करने का आवाहन किया।

ये भी देखें : वो 6 फिल्में जिन्हें पूरी फैमिली एक साथ देखती है लेकिन अलग-अलग

मुलायम संग काटा केक

सपा नेता रामगोपाल यादव ने शुक्रवार को अपना 72 वां बर्थडे मनाया। इस मौके पर सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने रामगोपाल यादव के साथ केक काटकर उन्‍हें बधाई दी। यह बात इसलिए भी महत्‍वपूर्ण है क्‍योंकि मुलायम सिंह यादव ने समाजवादी झगड़े के दौरान रामगोपाल यादव का खुला विरोध किया था।

शिवपाल यादव का छलका दर्द

रामगोपाल यादव के जन्‍मदिवस पर शिवपालय यादव ने उनके आवास पहुंचकर मंच साझा किया। इस दौरान शिवपाल यादव ने मंच से अपनी टीस को बयां किया। मुबारकबाद देने के बाद शिवपाल सिंह यादव ने अपने अपमान की बात भी मंच से कही। शिवपाल यादव ने मंच से कहा कि उन्होंने हमेशा नेताजी और प्रोफेसर रामगोपाल यादव का सम्मान किया है। लेकिन उनसे मुझे जो अपमान मिला है, वो भूल नही पाएंगे। शिवपाल यादव इस कार्यक्रम में करीब 20 मिनट तक रूके। हालांकि इस कार्यक्रम से नेता मुलायम सिंह यादव के आने से पहले ही वह वहां से चले गए।

ये भी देखें : पूर्व मंत्री के पुत्र पर बलवा का केस दर्ज, मीडिया ने की पीडित की मदद

शिवपाल बोले- देश में है अघोषित इमरजेंसी

शिवपाल यादव ने कहा कि हमें दोबारा से संघर्ष करना पड़ेगा। तब हमें वो मुकाम हासिल होगा जो देशहित में है। इसके साथ ही कहा कि देश के अंदर अघोषित इमरजेंसी लगी हुई है। भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है। महंगाई से जनता त्रस्त है। हमारा जो मुकाम था वो चापलूसी की वजह से चला गया है। अब समाजवादियों और सेक्युलर लोगों को एक होना पड़ेगा तभी हमें वो मुकाम हासिल होगा।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story