×

शिवपाल यादव का दावा- 40 से ज्यादा राजनीतिक दल उनके साथ, नेताजी को भी दिया बड़ा ऑफर

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 27 Sep 2018 11:29 AM GMT

शिवपाल यादव का दावा- 40 से ज्यादा राजनीतिक दल उनके साथ, नेताजी को भी दिया बड़ा ऑफर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

सहारनपुर: समाजवादी पार्टी में पड़ी आपसी पारिवारिक फूट के बाद पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव द्वारा गठित समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के गठन के बाद लगता है अब इस दल से दूसरे छोटे दलों के नेता भी जुड़ना चाहते हैं। शिवपाल यादव समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के साथ दूसरे छोटे दलों के नेताओं को भी साथ लेकर चलने की मंशा रखते हैं। यही वजह है कि गुरुवार को शिवपाल यादव सहारनपुर पहुंचे और उन्होंने यहां पर बहुजन क्रांति मोर्चा की ओर से आयोजित सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि भाग लिया। इस दौरान उन्होंने कहा कि नेताजी यानि कि मुलायम सिंह यादव को सेक्युलर मोर्चा की ओर से चुनाव लड़ने का ऑफर दिया गया है।

महागठबंधन में शामिल होगा मोर्चा

गुरुवार की दोपहर बाद यहां दिल्ली रोड स्थित साउथ सिटी ग्राउंड में बहुजन क्रांति मोर्चा की ओर से आयोजित कार्यक्रम को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल यादव ने कहा कि समान विचारधारा वाले 40 से ज्यादा छोटे दल उनके साथ हैं और वह इन्हीं के सहारे राजनीतिक और चुनावी वैतरणी को पार करके दिखाएंगे। उन्होंने कहा कि मुलायम सिंह यादव का आशीर्वाद उन्हें मिला है। महा गठबंधन में उनके मोर्चे को भी शामिल किया जाना चाहिए। मुझे नहीं बुलाया गया, कोई बात नहीं, लेकिन समान विचारधारा के 40 छोटे-छोटे दल उनके साथ हैं।

शिवपाल का कहना है कि सेक्युलर मोर्चा लोकसभा का चुनाव मजबूती के साथ लड़ेगा। गठबंधन हुआ तो चुनाव के परिणाम कुछ और ही होंगे। इसके साथ ही साथ कहा कि मुलायम सिंह यादव को सेक्युलर मोर्चा से चुनाव लड़ने के लिए ऑफर दिया है।

समाजवादी पार्टी टूटने से बेहद दुखी

शिवपाल यादव ने भाजपा के संपर्क में रहने की बातों को सिरे से खारिज किया। उन्होंने कहा कि नेताजी के साथ मिलकर सपा का गठन किया। इसके टूटने का उन्हें बेहद दर्द है। पिछले दो साल से वह परिवार और समाजवादी परिवार को एक रखने की कोशिश करते चले आ रहे थे। लेकिन ऐसा संभव नहीं हो पाया। सपा ही नहीं बल्कि अन्य राजनीतिक दलों में भी जो पदाधिकारी और कार्यकर्ता उपेक्षित हैं, उनका मोर्चे में स्वागत किया जाएगा। हमारा लक्ष्य उत्तर प्रदेश की तस्वीर बदलना है। मोर्चा प्रदेश की सभी लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगा।

उन्होंने कहा कि दबे कुचलों ओर वंचितों को उनका हक न्याय दिलाना ही मोर्चे का लक्ष्य है। भाजपा से साठगांठ होने के आरोप को उन्होंने सिरे से खारिज कर दिया तथा उन्होंने कहा कि उनके सेक्युलर अभियान को बाधित करने का प्रचार है। वह आमजन की लड़ाई लड़ेंगे। किसान और मजदूरों की लड़ाई लड़ेंगे और पीछे नहीं हटेंगे। इस दौरान बहुजन क्रांति मोर्चा के अध्यक्ष वामन मेश्रान, चौधरी नीरपाल सिंह समेत अन्य नेताओं ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story