Top

चिठ्ठी बम: सिद्धार्थनाथ सिंह को चाहिए अखिलेश यादव का पुराना सरकारी बंगला

shalini

shaliniBy shalini

Published on 19 Jun 2018 8:55 AM GMT

चिठ्ठी बम: सिद्धार्थनाथ सिंह को चाहिए अखिलेश यादव का पुराना सरकारी बंगला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ- अगस्त क्रान्ति, बड़ी एलईडी टीवी और लैपटॉप की अपार सफलता के बाद स्वास्थ मंत्री ने बड़े बँगले की डिमांड रख दी है। 19 गौतमपल्ली मार्ग स्थित मंत्री जी बँगला अब छोटा पड़ने लगा है। ऐसा तब हुआ है, जब सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव और सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव का आलीशान बँगला खाली करा लिया गया है। जो उन्हें पूर्व मुख्यमंत्री की हैसियत से मिला हुआ था। अब स्वास्थ मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह की दिली ख्वाहिश है, कि उन्हें अखिलेश यादव वाला बँगला एलॉट कर दिया जाए।

वो पाकिस्तानी सेलेब्रिटीज जो किसी भारतीय के प्यार में हो गए दीवाने

लोक सेवा आयोग की एक और बड़ी लापरवाही, हिंदी की जगह बांटा गया निबंध का पेपर

चिठ्ठी बम बनता रहा है सिद्धार्थनाथ सिंह के मुसीबत

प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री और प्रमुख सचिव राज्य संपत्ति विभाग एस पी गोयल को लिखी चिठ्ठी में सिद्धार्थनाथ सिंह ने लिखा है, कि उनका बँगला कैम्प कार्यालय के स्टाफ एवं आने जाने वालों के लिए छोटा पड़ता हैं ऐसे में उन्हें अखिलेश यादव का 4 विक्रमदित्य वाली हवेली एलाट कर दी जाए। मन्त्री जी की चिठ्ठी का मज़मून कुछ इस तरह है।

"अवगत कराना है कि मुझे आवास संख्या 19 गौतमपल्ली मार्ग पर मंत्री आवास आवंटित है ।किंतु उक्त आवास में कैंप कार्यालय के स्टाफ एवं आगंतुकों आम जनता के बैठने हेतु पर्याप्त स्थान ना होने के कारण काफी असुविधा होती है। साथ यह भी अवगत कराना है कि भूतपूर्व माननीय मुख्यमंत्रियों के नाम से जो आवास आवंटित है उन्हें खाली कराया जा रहा है। अतः आपसे निवेदन है कि कृपया मुझे आवंटित आवास संख्या 19 गौतमपल्ली मंत्री आवास के स्थान पर रिक्त हो रहा आवास संख्या 4 विक्रमादित्य मार्ग अथवा 5 विक्रमादित्य मार्ग आवासों में से किसी एक आवास को आवंटित करने का कष्ट करें"

अखिलेश यादव पर साधते रहे हैं निशाना

स्वास्थ मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह भले ही अखिलेश यादव के पुराने सरकारी बंगले को लेकर दावा ठोक रहे हैं लेकिन इसी बंगले को लेकर वह अखिलेश यादव पर निशाना भी साधते रहे हैं कि इतना बड़ा आवास बनाने में फुजूलखर्ची हुई है। हालाँकि इन बंगलों पर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या की भी निगाह है। उधर ब्यूरोक्रेसी अखिलेश यादव वाले बंगले को सरकार के सब से बड़े अफसर यानि मुख्य सचिव के लिए रिज़र्व रखना चाहती है।

shalini

shalini

Next Story