Top

लोकतंत्र को बचाने के लिए सपा-बसपा गठबंधन ही विकल्प : अखिलेश

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भारत गम्भीर दौर से गुजर रहा है। दुनिया के दूसरे देशों के मुकाबले भारत पिछड़ गया है। भाजपा जबसे सत्ता में आई है उसने नफरत फैलाने और समाज को तोड़ने का काम किया है। संविधान की शपथ की जगह वह आरएसएस के निर्देशों पर काम कर रही है।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 24 Jan 2019 2:45 PM GMT

लोकतंत्र को बचाने के लिए सपा-बसपा गठबंधन ही विकल्प : अखिलेश
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भारत गम्भीर दौर से गुजर रहा है। दुनिया के दूसरे देशों के मुकाबले भारत पिछड़ गया है। भाजपा जबसे सत्ता में आई है उसने नफरत फैलाने और समाज को तोड़ने का काम किया है। संविधान की शपथ की जगह वह आरएसएस के निर्देशों पर काम कर रही है। भाजपा ने कोई काम नहीं किया, बस रात-रात जागकर साजिश की रणनीति बनाती है। भ्रमित करने को अपनी उपलब्धि बताती है। जनता अब भाजपा से मुक्ति चाहती है। लोकतंत्र को बचाने के लिए समाजवादी पार्टी और बसपा का गठबंधन ही विकल्प है।

ये भी देखें : देश के लोकतंत्र की सेहत के लिए ज़रूरी है कि न्यायिक व्यवस्था इफेक्टिव हो- राजनाथ सिंह

अखिलेश यादव आज समाजवादी पार्टी मुख्यालय, लखनऊ के डाॅ. लोहिया सभागार में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी नेता जननायक कर्पूरी ठाकुर की जयंती पर आयोजित सभा को सम्बोधित कर रहे थे। यादव ने कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा पर माल्यार्पण के पश्चात् उनके संघर्ष और योगदान का स्मरण करते हुए कहा कि उन्होंने समाज को जगाने का काम किया था। साधारण परिवार के होते हुए असाधारण काम किये। ऊंचाई पर पहुंचकर भी सादगी के साथ जनहित में तमाम काम किए। उन्होंने समाजवादी विचार का रास्ता दिखाया। गरीबों में स्वाभिमान जगाया। आज सभी को उनके रास्ते पर चलने का संकल्प लेना है।

यादव ने कहा कि भाजपा ने 40 के लगभग पार्टियों से गठबंधन किया है अतः उसका समाजवादी पार्टी-बहुजन समाज पार्टी गठबंधन पर टिप्पणी करना अलोकतांत्रिक है। भाजपा सत्ता पर कब्जा करने के लिए व्याकुल है। प्रधानमंत्री ने झूठ बोलने का रिकार्ड तोड़ दिया है। नोटबंदी से पूरी अर्थव्यवस्था चैपट कर दी है। जीएसटी से व्यापारी परेशान हैं। कालाधन वापस आया नहीं, भारत के बैंकों का पैसा लेकर उद्योगपति विदेश पलायन कर गए हैं। भाजपा नेता हमीरपुर, जालौन में अवैध खनन करा रहे हैं।

ये भी देखें : पीएम मोदी और CM योगी के फोटो पर फेका कीचड़, पुलिस ने शुरू की जांच

अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी सरकार के विकासकार्यों का कोई मुकाबला नहीं कर सकता है। शिक्षा, स्वास्थ्य, चिकित्सा सड़कों के क्षेत्र में समाजवादी सरकार के कामों की सभी प्रशंसा करते हैं। समाजवादी सरकार ने यूपी डायल 100 की पुलिस व्यवस्था बर्बाद कर दी गई है। गौमाता को सुविधा और सम्मान भी भाजपा सरकार नहीं दे सकी। भाजपा के शासनकाल में एक यूनिट बिजली का उत्पादन नहीं हुआ। भाजपा राज में किसानों की घोर उपेक्षा है। गन्ना किसानों का सन् 2018-2019 का बकाया न मिलने के कारण किसानों की स्थिति चिंता जनक है। शामली स्थित शूगर मिल के सामने हजारों किसान एक सप्ताह से गन्ना की कीमत न मिलने एवं बकाया भुगतान न होने के कारण धरना प्रदर्शन कर रहे है। पिछले वर्ष का बकाया गन्ना भुगतान अभी तक नहीं हुआ। किसान दुःखी और आक्रोशित है।

यादव ने कहा कि यह तो सभी जानते हैं कि उत्तर प्रदेश से ही भारत की राजनीति का भाग्य निर्णय होता है। समाजवादी भाजपा से डरने वाले नहीं है। भाजपा चुनाव आते ही धोखा देने वाली घोषणा कर रही है, इससे सावधान रहना है। भाजपा की चाल जनता समझ गई है। देश को नया प्रधानमंत्री मिलना चाहिए। देश मई 2019 में नई सरकार और नए प्रधानमंत्री का इंतजार कर रहा है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story