Top

जातीय बदजुबानी के शिकार IPS बेहाल, सांप्रदायिक दंगे में सस्पेंड अफसर बहाल

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने गुरुवार को निलंबित आईएएस अधिकारी एनपी सिंह और आईपीएस अफसर सुभाष चंद्र दूबे को बहाल कर दिया है।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 14 Sep 2017 4:52 PM GMT

जातीय बदजुबानी के शिकार IPS बेहाल, सांप्रदायिक दंगे में सस्पेंड अफसर बहाल
X
जातीय बदजुबानी के शिकार IPS बेहाल, सांप्रदायिक दंगे में सस्पेंड अफसर बहाल !
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : यूपी की योगी सरकार ने गुरुवार को निलंबित आईएएस अधिकारी एनपी सिंह और आईपीएस अफसर सुभाष चंद्र दूबे को बहाल कर दिया है। सहारनपुर में हुए जातीय संघर्ष के बाद इन दोनों अफसरों को निलंबित किया गया था। क़रीब 4 महीने तक लंबी जांच पड़ताल के बाद इन अफसरों की बहाली की कार्रवाई पूरी हुई है। वहीं योगी सरकार पर टिप्पणी करने वाले आईपीएस अफसर हिमांशु कुमार अब तक बहाल नहीं हो सके हैं।

सहारनपुर में हुए जातीय संघर्ष के चलते सस्पेंड किए गए तत्कालीन डीएम सहारनपुर नरेंद्र प्रताप सिंह और एसएसपी सहारनपुर सुभाष चंद्र दूबे को 24 मई 2017 को निलंबित कर दिया गया था। जनकपुरी सहारनपुर में 19 अप्रैल को अम्बेडकर जयंती के मौके पर अम्बेडकर शोभा यात्रा निकाले जाने को लेकर बवाल हो गया था।

यह भी पढ़ें .... सहारनपुर हिंसा: योगी सरकार की कार्रवाई, DM एनपी सिंह और SSP सुभाष चंद्र दुबे सस्पेंड

इस बवाल के बाद योगी सरकार ने एसएसपी सहारनपुर लव कुमार को हटा कर उनकी जगह 2005 बैच के आईपीएस अफसर सुभाष चंद्र दूबे को सहारनपुर का नया एसएसपी बना दिया। जबकि डीएम नोएडा एनपी सिंह को सहारनपुर का डीएम बना दिया गया। इस दौरान रुक-रुक कर छुट-पुट हिंसा होती रही।

इसी बीच 23 मई को बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख और यूपी की पूर्व सीएम मायावती के सहारनपुर से सभा कर वापस लौटते ही हिंसा भड़क उठी थी। जिसके बाद इन दोनों अफसरों को 24 मई को सस्पेंड कर दिया गया था।

यह भी पढ़ें .... लापरवाही: हल्के में ली सहारनपुर हिंसा, क्यों स्पॉट पर नहीं गए यूपी के दो टॉप मोस्ट अधिकारी?

एक तरफ जहां योगी सरकार ने सहारनपुर में हुई हिंसा में लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित दोनों अफसरों को बहाल कर दिया है, तो वहीं योगी सरकार की कार्यशैली पर सोशल मीडिया के जरिए टिप्पणी करने वाले 2010 बैच के आईपीएस अफसर हिंमाशु कुमार अब तक बहाल नहीं किए गए हैं।

दरअसल, हिमांशु कुमार ने सोशल मीडिया पर लिखा था कि कुछ अफसर अपनी कुर्सी के चक्कर में जाति विशेष के पुलिस जवानों को प्रताड़ित कर रहे हैं। जिसके बाद योगी सरकार ने क़रीब छ: महीने पहले 25 मार्च 2017 को आईपीएस हिमांशु कुमार को निलंबित कर दिया था। हिमांशु कुमार का पत्नी से विवाद भी चल रहा है और मामला पटना की कोर्ट में विचाराधीन है।

यह भी पढ़ें .... ‘योगी युग’ में पहली बड़ी कार्रवाई, IPS हिमांशु कुमार निलंबित, लगाए थे ये गंभीर आरोप

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story