Top

राजीव ने दिया था बस स्टाप का तोहफ़ा, राहुल की बेरुखी से गिरने के कगार पर

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 20 Aug 2017 2:15 PM GMT

राजीव ने दिया था बस स्टाप का तोहफ़ा, राहुल की बेरुखी से गिरने के कगार पर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अमेठी: देश को राजीव गाँधी जैसा सौम्य व सरल प्रधानमंत्री देने वाला अमेठी आज उनको याद कर भावुक हो गया उसे आज बहुत याद आए राजीव। राजीव ने प्रधानमंत्री रहते अमेठी को देश और विदेश में भी पहचान दिलाने का काम किया था। वहीँ आज उनके द्वारा कराए गए विकास कार्य अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहे हैं।

ये भी देखें:जयंती पर विशेष : राजीव गांधी ने की थी देश में कम्प्यूटरीकरण की शुरुआत

तिलोई को 8 दिसंबर 1983 को राजीव गांधी ने परिवहन निगम की बसों का तोहफा दिया था और एक बस स्टाप भी बनाया गया। आज यह बस स्टाप गिरने की कगार पर है। ये सब तब है जब 10 साल केंद्र में कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए की सरकार रही।

ये भी देखें:अमित शाह ने दाल-बाटी तो खा ली, पर घर में शौचालय था ही नहीं!

राजीव गांधी के बाद अमेठी का प्रतिनिधित्व सोनिया गांधी, कैप्टन सतीश शर्मा ,और अब राहुल गांधी कर रहे हैं। लेकिन यहाँ विकास नाम की चिड़िया आती ही नहीं तिलोई के व्यवसाईयों ने कई बार सांसद ,विधायक से लेकर शासन-प्रशासन से बस स्टाप के जीणोद्धार की बात कही लेकिन किसी के पास उनकी बात सुनने का समय ही नहीं है।

देखें तस्वीरें:

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story