सुरेंद्र सिंह होंगे BJP से बाहर! प्रदेश अध्यक्ष ने दी चेतावनी, बोले-सुधर जाओ…

भाजपा विधायक सुरेन्द्र सिंह ने आरोपी धीरेन्द्र सिंह का खुलकर पक्ष लेते हुए अपनी ही सरकार की पुलिस पर प्रश्न खड़ा कर दिया। उन्होंने पुलिस की कार्रवाई को एकतरफा बताते हुए पूरे प्रकरण की जांच सीबीसीआईडी को सौंपने की मांग की है।

BJP-leaders

प्रदेश भाजपा नेतृत्व स्वतंत्रदेव सिंह ने कहा सुरेन्द्र सिंह सुधर जाओ (Photo by social media)

लखनऊ: अपने बयानों से राज्य सरकार को संगठन को कटघरे में खड़ा करने वाले विधायक सुरेन्द्र सिंह को प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने तलब कर पूरी घटना के बारे में बात की। इस दौरान उनसे कहा गया कि भविष्य में बयान देने से पहले इस बात का ख्याल रखें कि उनके बयान से किसी भी तरह से पार्टी और सरकार की छवि पर असर न पड़े। लगभग एक घंटे तक प्रदेष महामंत्री संगठन सुनील बंसल और प्रदेष अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह के समक्ष पार्टी विधायक सुरेन्द्र सिंह ने अपनी सफाई दी। इस पर प्रदेश नेतृत्व ने उन्हे हिदायत देते हुए कहा कि भविष्य में ऐसी गलती नहीं होनी चाहिए।

ये भी पढ़ें:समुद्र में अनुष्का विराट: रोमांस हुआ तस्वीरों में कैप्चर, फैंस ने दिया ऐसा रिएक्शन…

सुरेन्द्र सिंह ने आरोपी धीरेन्द्र सिंह का खुलकर पक्ष लेते हुए अपनी ही सरकार की पुलिस पर प्रश्न खड़ा कर दिया

गौरतलब है कि भाजपा विधायक सुरेन्द्र सिंह ने आरोपी धीरेन्द्र सिंह का खुलकर पक्ष लेते हुए अपनी ही सरकार की पुलिस पर प्रश्न खड़ा कर दिया। उन्होंने पुलिस की कार्रवाई को एकतरफा बताते हुए पूरे प्रकरण की जांच सीबीसीआईडी को सौंपने की मांग की है। सुरेन्द्र सिंह ने यह भी कहा था कि घटना वाले दिन धीरेंद्र सिंह के परिजनों से मारपीट की गई थी। जिसको देखते हुए धीरेंद्र सिंह द्वारा आत्मरक्षा में फायरिंग की गई थी।

इस घटना को लेकर मीडिया में उनका यह बयान भी आया था कि पिछली सरकार यादवों का बचाव करती थी। तो अब अपनी सरकार में हम क्यों न अपने लोगों का बचाव करें। इसके अलावा उन्होंने कहा था कि वो चाहते हैं कि पुलिस-प्रशासन इस मामले में दोनों पक्षों की सुने और एकतरफा कार्रवाई न करें।

बलिया कांड के बाद विधायक सुरेन्द्र सिंह धीरेन्द्र सिंह के परिजनों को लेकर थाने पहुंचे थें

यहां यह भी बताना जरूरी है कि बलिया कांड के बाद विधायक सुरेन्द्र सिंह धीरेन्द्र सिंह के परिजनों को लेकर थाने पहुंचे थें और पुलिस पर अनावष्यक दबाव भी बनाया था। विधायक का दावा है कि विधायक का कहना था कि धीरेन्द्र के परिवार के लोग भी चोटिल हुए हैं। इसलिए उनका भी एफआईआर लिखा जाए लेकिन पुलिस ने केस से पहले मेडिकल की बात कही। तब विधायक पूरे परिवार के साथ सीएचसी पहुंच गए।

ये भी पढ़ें:बलियाकांड पर फैसला: मुख्य आरोपी जाएगा जेल, कोर्ट ने दिए ये आदेश…

गौरतलब है कि बलिया जिले के रेवती क्षेत्र के ग्राम सभा दुर्जनपुर व हनुमानगंज की दो दुकानों के आवंटन को लेकर हुए हंगामे के दौरान दो पक्षों में मारपीट के दौरान एक पक्ष के पूर्व फौजी धीरेंद्र प्रताप सिंह ने गोली चला दी, जिससे दूसरे पक्ष के जयप्रकाश उर्फ गामा पाल (46) की मौत हो गई। इसके बाद धीरेंद्र सिंह फरार हो गया था। इसके बाद गत रविवार को उसे पुलिस ने लखनऊ में गिरफ्तार कर लिया।

श्रीधर अग्निहोत्री

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App