×

Azam Khan: आजम को जेल में रखने पर बीजेपी सरकार पर बरसीं मायावती, क्या अपने पाले में रखने करने का है दांव?

Politics on Azam Khan: बीएसपी चीफ मायावती ने आज सुबह-सुबह आजम खान के समर्थन में ट्वीट कर योगी सरकार को घेरा है।

Rahul Singh Rajpoot
Published on 12 May 2022 4:52 AM GMT
Mayawati Azam khan
X

मायावती ने बीजेपी पर बोला हमला (फोटो-सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Politics on Azam Khan: उत्तर प्रदेश की राजनीति (UP Politics) में आजम खान इस वक्त मुख्य केंद्र बिंदु बने हुए हैं, समाजवादी पार्टी से उनकी नाराजगी की खबरों के बीच बहुजन समाज पार्टी(BSP) अब उन पर डोरे डालने शुरू कर दी है। बीएसपी चीफ मायावती(Mayawati Tweet Azam Khan) ने आज सुबह-सुबह आजम खान के समर्थन में ट्वीट कर योगी सरकार को घेरा है मायावती ने आजम के समर्थन में ट्वीट करते हुए लिखा 'यूपी सरकार(UP Government) द्वारा अपने विरोधियों पर लगातार दोषपूर्ण व आतंकित कार्यवाही तथा वरिष्ठ विधायक मोहम्मद आजम खान(Support of Azam Khan) को करीब 2 वर्षों से जेल में बंद रखने का मामला काफी चर्चाओं में है, जो लोगों की नजर में न्याय का गला घोटना नहीं तो और क्या है'?


मायावती का ये ट्वीट ऐसे समय में आया है जब आजम के बाहर निकल का रास्ता लगभग साफ हो गया है. इस मामले को लेकर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार को फटकार लगाई थी कि जब उन्हें जमानत मिलती है कोई नया मामला क्यों दाखिल कर दिया जाता है.

ऐसे में माना जा रहा है कि जल्द ही आजम खान सीतापुर जेल से बाहर आ सकते हैं. उससे पहले मायावती का योगी सरकार पर हमला और आजम के प्रति संवेदना जताना कहीं न कहीं बड़ा सियासी संदेश देता है.

दरअसल आजम खान बड़े मुस्लिम नेता हैं, वह रामपुर से 9 बार विधायक और 2019 के लोकसभा चुनाव वहां से सांसद चुने गए थे. 2022 में अखिलेश यादव ने उन्हें फिर से रामपुर से विधानसभा के मैदान में उतारा वह जेल में रहते हुए चुनाव जीत गए थे. विधानसभा चुनाव के बाद आजम के मीडिया प्रभारी ने जिस तरह से सपा प्रमुख के खिलाफ मोर्चा खोला उसके बाद आजम और उनके परिवार की नाराजगी अखिलेश यादव से जगजाहिर हो गई.

बीते दिनों समाजवादी पार्टी का एक प्रतिनिधि मंडल सीतापुर जेल उनसे मिलने गया था लेकिन उन्होंने मुलाकात से इनकार कर दिया था. उसे एक दिन पहले अखिलेश के खिलाफ विरोध का बिगुल फूंक चुके शिवपाल यादव से उन्होंने लंबी मंत्रणा की थी. जेल से बाहर निकलने के बाद शिवपाल ने कहा था आजम साहब जल्द बाहर आने वाले हैं वह अगली रणनीति मिलकर तैयार करेंगे।

जिसके बाद आजम खान के बाहर आने आने पर सबकी निगाहें लगी हुई है. बसपा ही नहीं कांग्रेस भी उन्हें अपने पाले में करने में लगी हुई है. पिछले दिनों कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने भी उनसे जेल में और रामपुर में उनके परिवार से मुलाकात की थी और चर्चा शुरू हो गई, कि क्या आजम कांग्रेस की ओर रुख करेंगे।

लेकिन उससे पहले आज जिस तरह से बीएसपी मुखिया मायावती ने आजम के समर्थन में खुलकर ट्वीट किया और योगी सरकार को घेरा उससे साफ है कहीं न कहीं मायावती अपने दलित और मुस्लिम समीकरण को आगे बढ़ाने के लिए आजम खान पर उनकी निगाह टिकी है।

2019 में किया था आज़म का प्रचार

इससे पहले मायावती ने 2019 के लोकसभा चुनाव में रामपुर जाकर आजम खान के समर्थन में रैली को संबोधित किया था और उनके लिए वोट मांगा था। हालांकि समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का उस वक्त गठबंधन था लेकिन लोकसभा चुनाव के बाद उनके रास्ते फिर से जुदा हो गए.

अखिलेश यादव से आजम खान के रिश्तो में आई खटास के बीच माया ने यह बड़ा दांव चला है. आजम खान अगर उनके साथ आ जाते हैं तो इससे उन्हें बड़ा फायदा होगा. क्योंकि आजम एक बड़े मुस्लिम नेता हैं, मायावती का अपना दलित वोट बैंक है.

दलित और मुस्लिम का जो समीकरण बैठाने में वह लगी हुई हैं आजम के आने से उसे बल मिलेगा और मायावती को इसका अंदाजा है यही वजह है कि आजम के समर्थन में आज खुलकर ट्वीट कर दी हैं. इससे पहले खबर आई थी मायावती ने रामपुर के बसपा नेताओं को बोला था की वह आजम खान के परिवार से तालमेल बढ़ाएं.

अब यह देखना दिलचस्प होगा कि जब वह जेल से छूट कर आते हैं, शिवपाल भी उनके इंतजार में बैठे हैं कि आजम खान जेल से बाहर आए तो मिलकर अगली रणनीति बनाएं. क्योंकि शिवपाल ने भी चुनाव के बाद अखिलेश के खिलाफ खुलकर विरोध जताना शुरू कर दिया है.शिवपाल भले ही सपा के टिकट पर विधायक चुने गए हों लेकिन अपनी उपेक्षा से नाराज होकर अब अखिलेश से उनकी अदावत और बढ़ गई है.

आजम खान भी अभी सपा के विधायक हैं लेकिन वह अखिलेश यादव से नाराज बताए जा रहे हैं. ऐसे में सपा के यह दो विधायक जो बड़े कद्दावर नेता भी हैं, शिवपाल ने अखिलेश से दूरी बना ली है अगर आजम भी उनसे दूर होते हैं यह समाजवादी पार्टी को एक बड़ा झटका होगा. इसी पर बाकी दलों की नजरें टिकी है. फिलहाल सभी को इंतजार है आजम खान के बाहर आने का जब वह जेल से छूटते हैं क्या कदम उठाते है.

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story