Top

सड़क पर आलू फेंक दिया तो कौन-सा अपराध कर दिया : अखिलेश

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 15 Jan 2018 1:34 PM GMT

सड़क पर आलू फेंक दिया तो कौन-सा अपराध कर दिया : अखिलेश
X
डिंपल नहीं लड़ेंगी अब लोकसभा चुनाव, अखिलेश हो सकते हैं कन्नौज से प्रत्याशी
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि उत्तर प्रदेश का किसान आंदोलित है और राज्य सरकार अपने वादे पूरे करने में विफल साबित हुई है। इससे खीझकर राज्य सरकार यह दुष्प्रचार कर रही है कि विधानभवन लखनऊ तक आलू पहुंचाने के पीछे भाजपा सरकार को बदनाम करने की साजिश थी। सच्चाई इसके उलट यह है कि भाजपा सरकार के मंत्रीगण और अधिकारी किसानों को बदनाम करने पर तुले हुए हैं। उन्हें झूठे केसों में फंसा कर जेल में डालना, उनका उत्पीड़न करना और यातना देना, इस सबसे भाजपा सरकार अपनी खीझ मिटाना चाहती है जिससे उसके किसान विरोधी आचरण पर पर्दा पड़ जाये।

उन्होंने कहा भाजपा एक और चाल चल रही है। उसकी कोशिश किसानों को जातियों में बांटने की है। जबकि किसान स्वयं में एक वर्ग है। किसान कभी जातिवादी नहीं हो सकता है। वह अपने श्रम से जीविका कमाता है। दूसरों का भी भेट भरता है। उसको अपमानित या लांछित करना निंदनीय है। भाजपा की इन कोशिशों को किसानों ने भी अस्वीकृत कर दिया हैं।

पूर्व सीएम ने कहा आलू किसान की लागत भी नहीं निकल रही हैं। आलू किसानों को समर्थन मूल्य देने का वादा वादा ही बना रहा। शीतगृहों में किसानों का आलू सड़ गया। भाजपा सरकार ने इस तरह आलू किसानों को राहत देने के नाम पर सिर्फ बहकाने और धोखा देने का काम किया हैं। आलू की बरबादी देखकर किसान आंसू बहाने के अलावा कुछ नहीं कर पा रहा है।

अखिलेश बोले भाजपा सरकार न केवल आलू किसान अपितु गन्ना किसानों को भी राहत देने में विफल रही है। गन्ना किसानों का बकाया अब तक भुगतान नहीं हुआ। धान की खरीद में जमकर लूट हुई हैं। भाजपा सरकार किसानों में और आम जनता में अलोक प्रिय हो गई है। बाजार की मंदी पर किसानों ने अगर सड़क पर आलू फेंक दिया तो कौन-सा अपराध कर दिया?

उन्होंने कहा सड़े आलू को शीतगृह में तो रखा नहीं जा सकता था। सरकार को किसानों को इसके लिए जो मुआवजा देना था वह तो उसने दिया नहीं, किसानों के दर्द पर मरहम लगाने के बजाय उनके जख्म कुरेदना शुरू कर दिया है। यह भाजपा का अमानवीय चेहरा हैं। वैसे उसकी नीतियां ही किसान विरोधी और पूंजीघरानों की पक्षधर हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story