Top

वसीम रिजवी बोले- मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड कराना चाहता है फसाद

aman

amanBy aman

Published on 20 Nov 2017 6:57 AM GMT

वसीम रिजवी बोले- मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड कराना चाहता है फसाद
X
वसीम रिजवी बोले- मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड कराना चाहता है फसाद
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: शिया सेन्ट्रल वक़्फ़ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी ने बाबरी मस्जिद विवाद को सुलझाने के लिए मसौदा तैयार करने का दावा किया। रिजवी द्वारा पेश मसौदे में विवादित स्थल पर भव्य राम मंदिर और लखनऊ में मस्जिद-ए-अमन के निर्माण का प्रस्ताव है। इसी को लेकर सोमवार (20 नवंबर) को महंत नरेंद्र गिरी और वसीम रिजवी एक साझा प्रेस कांफ्रेंस किया।

ये भी पढ़ें ...लखनऊ में बनेगी अयोध्या की बाबरी मस्जिद, शिया वक्फ बोर्ड का दावा

इससे पहले शिया सेन्ट्रल वक़्फ़ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी ने बाबरी मस्जिद विवाद को सुलझाने के लिए मसौदा तैयार करने का दावा किया। इस मसौदे पर अध्यक्ष अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद् समेत कई पक्षकारों के दस्तखत होने का दावा किया जा रहा है। मसौदे में विवादित स्थल पर भव्य राम मंदिर और लखनऊ में मस्जिद-ए-अमन के निर्माण का प्रस्ताव है। इस मसौदे का सबसे चौंकाने वाला तथ्य यह है कि इस विवाद में पक्षकार सुन्नी सेन्ट्रल वक्फ बोर्ड की तरफ से किसी के हस्ताक्षर नहीं हैं।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में शिया सेन्ट्रल वक़्फ़ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी ने कहा, कि 11 अगस्त को शिया वक्फ बोर्ड सुप्रीम कोर्ट गया था। सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड का रजिस्ट्रेशन कोर्ट निरस्त किया जा चुका है।

'शिया वक्फ बोर्ड अयोध्या से अपना दावा वापस लेता है'

रिजवी ने आगे कहा, 'हम साधु-संतों से मिले थे। पक्षकारों से मुलाक़ात की है। सुप्रीम कोर्ट में जो पक्षकार हैं उनसे भी बात की है। शिया वक्फ बोर्ड अयोध्या से अपना दावा वापस लेता है। समझौते के तहत हुसैनाबाद में मस्जिद बने 18 नवम्बर को हमने समझौता सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया है। अब 5 दिसम्बर से इस पर सुनवाई होगी।'

आगे की स्लाइड में पढ़ें वसीम रिजवी ने प्रेस कांफ्रेंस में और किन-किन मुद्दों पर पक्ष रखा ...

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड फ़साद चाहता है

रिजवी ने आगे कहा, 'मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड फ़साद कराना चाहता है। सुन्नी सेंट्रल वक़्फ़ बोर्ड फ़साद चाहता है। शिया वक़्फ़ बोर्ड को कभी कोई कॉपी नहीं मिली है। हमने कोई जवाब कभी कोर्ट को नहीं दिया। हमने सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड से भी बात की है। असली दावेदार को छुपाकर मुक़दमा लड़ाया जा रहा था। लोग फ़साद चाहते हैं। जांच होनी चाहिए कि फर्जी वकील शिया वक़्फ़ बोर्ड की तरफ से किसने खड़ा किया है। कोर्ट में तय होना है कि सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड का कितना क़ब्ज़ा है।'

सुन्नी वक्फ बोर्ड को बताना होगा अधिकार

वसीम रिजवी ने कहा, हम मस्जिद-ए-अमन का निर्माण हुसैनाबाद में कराएंगें। उन्होंने कहा कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को बताना होगा कि शिया वक़्फ़ बोर्ड की संपत्ति पर कैसे उसका अधिकार है? रिजवी ने कहा, हमारे ओर से पेश मसौदा पांच बिंदुओं पर आधारित है।

रिज़वी ने सौहार्द का वातावरण पैदा किया

इसके बाद महंत नरेंद्र गिरी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में अपनी बात रखी। नरेंद्र गिरी बोले, वसीम रिज़वी ने सौहार्द का वातावरण पैदा किया है। भगवान राम का जन्म अयोध्या में हुआ था। जो लोग नहीं मान रहे हैं उनसे भी बातचीत जारी है।

आगे की स्लाइड में पढ़ें महेंद्र गिरी ने क्या कहा ...

..आखिरी रास्ता अदालत ही है

महंत नरेंद्र गिरी ने कहा, कोर्ट में सहमति पत्र दाखिल किया गया है। हमने सबसे निवेदन किया है कि मंदिर वहीं बनेगा। हम चाहते हैं कि मंदिर सहमति से बने।नहीं तो आखिरी रास्ता अदालत ही है।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story