×

Punjab News: पंजाब में "आप" को झटका, गवर्नर ने विशेष सत्र बुलाने का आदेश वापस लिया

Punjab News: पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकारऔर राज्यपाल के बीच एक टकराव की स्थिति बन गई है क्योंकि राज्यपाल ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने का अपना आदेश वापस ले लिया है।

Neel Mani Lal
Written By Neel Mani Lal
Updated on: 21 Sep 2022 2:22 PM GMT
Bhagwant Mann
X

Bhagwant Mann। (Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Punjab News: पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार (AAP Government) और राज्यपाल के बीच एक टकराव की स्थिति बन गई है क्योंकि राज्यपाल ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने का अपना आदेश वापस ले लिया है। ये सत्र आप सरकार AAP Government) के आग्रह पर बुलाया जा रहा था जिसका उद्देश्य सरकार के पक्ष में विश्वास मत हासिल करना था।

राज्यपाल ने 20 सितंबर को विशेष सत्र बुलाने का दिया था आदेश

राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने कल यानी 20 सितंबर को विशेष सत्र बुलाने का आदेश दिया था लेकिन आज उन्होंने अपना आदेश वापस ले लिया। ये सत्र 22 सितंबर को होना था। नए आदेश में, राज्यपाल ने कहा है कि सिर्फ सरकार द्वारा विश्वास प्रस्ताव पर विचार करने के लिए विधानसभा बुलाने के संबंध में विशिष्ट नियमों का अभाव है। राज्यपाल को इससे पहले दिन में विपक्ष के नेता प्रताप सिंह बाजवा, विधायक सुखपाल सिंह खैरा और पंजाब भाजपा अध्यक्ष और विधायक अश्विनी शर्मा से प्रतिवेदन प्राप्त हुए, जिसमें कहा गया था कि केवल राज्य सरकार के पक्ष में 'विश्वास प्रस्ताव' के लिए विशेष सत्र बुलाने का कोई कानूनी प्रावधान नहीं है।

भारत के अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल सत्य पाल जैन से कानूनी राय मांगी: राज्यपाल

राज्यपाल ने कहा है कि इस मामले की जांच की गई और भारत के अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल सत्य पाल जैन से भी कानूनी राय मांगी गई। उन्होंने अपनी कानूनी राय दी है कि पंजाब विधानसभा की प्रक्रिया और कार्य संचालन के नियमों में केवल 'विश्वास प्रस्ताव' पर विचार करने के लिए विधानसभा को बुलाने के संबंध में कोई विशेष प्रावधान नहीं है।

विशेष विधानसभा सत्र का बहिष्कार करेगी: पंजाब भाजपा

पंजाब भाजपा (Punjab BJP) ने कहा था कि वह विश्वास मत के लिए आप सरकार द्वारा बुलाए गए विशेष विधानसभा सत्र का बहिष्कार करेगी और विधानसभा का घेराव करेगी।भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अश्विनी शर्मा ने "ऑपरेशन लोटस" के "निराधार" आरोप लगाने के लिए आप पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि विशेष सत्र सिर्फ दिखावा होगा और "आप विधायकों का अपमान" होगा क्योंकि उन्हें अपनी वफादारी साबित करनी होगी।

आप के वरिष्ठ नेताओं ने आरोप लगाया है कि विपक्षी भाजपा, भगवंत मान के नेतृत्व वाली सरकार को गिराने के लिए 25 करोड़ रुपये की पेशकश के साथ पार्टी के विधायकों को लुभाने की कोशिश कर रही है। इसके पहले आप ने तलवंडी साबो विधायक बलजिंदर कौर को विधानसभा में मुख्य सचेतक बनाया था। चूंकि सरकार खुद ही विश्वास प्रस्ताव पेश कर रही थी, इसलिए वह सत्र के दौरान सदन में आप के सभी 92 विधायकों की उपस्थिति सुनिश्चित करना चाहती है। मुख्य सचेतक विश्वास प्रस्ताव पेश करते समय सभी विधायकों की विधानसभा में उपस्थिति सुनिश्चित करेगा।

Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story